35.1 C
New Delhi
Sunday, April 21, 2024

Subscribe

Latest Posts

इंडिया टीवी-सीएनएक्स का ओपिनियन पोल, इंकलाब चुनाव में 29वीं सदी का गणित क्या है? – इंडिया टीवी हिंदी


छवि स्रोत: इंडिया टीवी
इंडिया टीवी-सीएनएक्स का ओपीनियन पोल

न: इंडिया टीवी-सीएनएक्स ने यूपी के सभी 80 रेज़्यूमे का हाल देखने के लिए ओपिनियन पोल किया है। यह ओपिनियन पोल एक लाख 60 हजार से अधिक लोगों के बीच फैला है। यहां हम रॉकेट की 29 वीं सदी के बारे में जानेंगे।

ओपिनियन पोल में कौन सा गंतव्य?

ओपिनियन पोल के मुताबिक, राष्ट्रवादी के 29वें दल में एनडीए के 28वें दल शामिल हो रहे हैं। वहीं INDI एलायंस को मैक्सिमम सीट्स दिख रही है। अन्य के लिए कोई भी विकल्प दिखाई नहीं दे रहा है। मजहब से समाजवादी पार्टी जीत सकती है। इसके अलावा अपना और राबर्ट्सगंज में दल भी जीत सकता है।

अर्थशास्त्री की 29 रचना का गणित-

  1. बलिया- पूर्व प्रधानमंत्री चन्द्रशेखर के पूज्य से प्रतिष्ठित हैं। यहां सबसे ज्यादा ब्राह्मण वोटर हैं। दूसरे नंबर पर आते हैं यादव और ठाकुर।
  2. ईसाई धर्म- मुस्लिम समुदाय की बहुसंख्यक सीट है, जो इस बार कांग्रेस के हिस्सों में है।
  3. मज़हब-अनोलाहोज़ के M+Y ग्राफ़ का मूल्यांकन ग्राउंड है।
  4. गोरखपुर- योगी आदित्यनाथ का पावर हाउस है। यहां जातीय गुणांक उद्धरण नहीं है। योगी मतलब रखते हैं।
  5. निशान- भगवान बुद्ध का निर्वाण स्थल है। प्रभाव की एक और ब्राह्मण बहुल सीट है।
  6. मिरकली- वकील के भाई अफजल अभियोजक को सपा ने जिज्ञासु बनाया है। एनडीए से ब्रजेश सिंह के नाम की चर्चा। इनका नाम अरोमा राजभर ने उछाला है। लेकिन अभी ब्रजेश सिंह को टिकट नहीं मिला है।
  7. जुलाई- 19 का चुनाव डेमोक्रेट ने जीता था। लेकिन तब उनका सूप के साथ गठबंधन था।
  8. फिशशहर (एससी)-बीजेपी ने पिछली बार इस सीट पर केवल 181 वोटों के अंतर से जीत हासिल की थी।
  9. चंदौली- यादव और दलित बहुल सीट है। बीजेपी के महेंद्रनाथ पांडे ने ये सीट कॉन्स्टेंट दो बार बनाई है।
  10. वाराणसी- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सीट है।
  11. भदोही- 14 और 19 दो चुनावी भाजपाई। जातिगत गुणांक की बात करें तो यहां पर समुदाय की मिश्रित आबादी है- बिंद, मौर्या, यादव, पाल, पटेल। इनके अलावा एक बड़ी आबादी ब्राह्मणों की है।
  12. गठबंधन- अपने दल के नेता अनुप्रिया पटेल डायनासोर से हैं। संभव है कि अनुप्रिया फिर से चुनावी मैदान में उतरे। दलित और कुर्मी वोटरों की रेटिंग है।
  13. राबर्ट्सगंज (एससी)- सुरक्षित सीट है। दलित वोटर सबसे ज्यादा हैं। यहां 2 लाख जेनेसिव वोटर भी हैं। 2019 में ये सीट अपनी दाल को मिली थी और यहां से अपनी दाल के पकौड़ी लाल मॉडल हैं।
  14. केरल (SC)- दलित सुरक्षित सीट है, लेकिन सबसे बड़े वोटर वर्ग मुसलमान हैं।
  15. कैसरगंज – बाहुबली ठाकुर नेता बृजभूषण शरण सिंह का चुनाव क्षेत्र है। ब्राह्मण, मुस्लिम और ठाकुर बहुल बैठे हैं। बलीभूषण शरण सिंह को लगातार तीसरी बार टिकटें मिलीं।
  16. कौशांबी- सुरक्षित सीट है। 14 और 19 में पार्टियाँ लड़कियाँ थीं। दलित सबसे बड़ा वोट बैंक है।
  17. फूलपुर – कभी यहां से जवाहर लाल नेहरू समाजवादी थे। यहां कुर्मी वोटर सबसे ज्यादा हैं। याद होगा कि यहां से नीतीश कुमार के लड़ने की बहुत चर्चा हुई थी, लेकिन नीतीश अब एनडीए के खेमे में आ चुके हैं और बिहार में डूबने लगे हैं।
  18. असमंजस – पहले इलाहाबाद का नाम से जाना जाता था। यहां से हेमवती नंदा बहुगुणा, अमिताभ बच्चन और मुरली मनोहर मनोहर जोशी मिनी रह चुके हैं। एक वक्त वो भी था, जब यहां से माफिया अतीक अहमद को सांसद चुना गया था। अतीक की हत्या के बाद पहली बार चुनाव में असहमति हो रही है। अभी ये सीट बीजेपी के पास है।
  19. अम्बेडकर नगर- दलित, मुस्लिम और कुर्मी बहुल सीटें हैं।
  20. श्रावस्ती – 32% से अधिक मुसलमान हैं। बीएसपी ने इस सीट पर बेहद करीबी मुकाबले में जीत हासिल की थी। सिर्फ 5000 वोट की छूट तय की गई थी।
  21. गोंडा – ब्राह्मण और मुस्लिम मतदाता हैं।
  22. डुमरियागंज – मुस्लिम और दलित वोटर हैं।
  23. प्लॉट – मिक्स्ड सोमल्ट की बहुलता है।
  24. संत कबीर नगर – मुस्लिम, निशाद और ब्राह्मण हैं।
  25. महाराजगंज – कुर्मी, पटेल, सोन्या, निशाद हैं।
  26. बांसगांव (एससी)-बीजेपी के पास है। अविश्वासी और दलित वोटर सबसे ज्यादा हैं। एकवचन में एकरूपता है। कोई एक जाति प्रधान नहीं है।
  27. लालगंज (एससी)-अतिरिक्त के पास। दलित सुरक्षित है, लेकिन लालगंज में राधा की बड़ी आबादी है।
  28. घोसी- एटमीप के पास है। यहां राजभर और चौहान वोटर्स सबसे ज्यादा हैं।
  29. सलेमपुर – बीजेपी के पास है। सलेमपुर में ब्राह्मण और कुशवाहा मतदाताओं की बहुलता है।

ये भी पढ़ें:

अमेरिका में भी है एक दिल्ली और लखनऊ, दुनिया में ढूंढो तो मिलेगी कई भारतीय नाम वाली जगह

पाकिस्तान के पूर्व पीएम इमरान खान और पत्नी बुशरा बीबी की मुश्किलें बढ़ने का मामला, कोर्ट ने इस मामले में दोषी करार दिया



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss