24.1 C
New Delhi
Wednesday, February 28, 2024

Subscribe

Latest Posts

INDIA TV-CNX Survey: 12 राज्यों की 48 लोकसभा सीटों पर जाति जनगणना के बाद ताजा सर्वे


Image Source : INDIA TV
इंडिया टीवी- CNX सर्वे

नई दिल्ली: जाति जनगणना के बाद इंडिया टीवी- CNX का ताजा सर्वे सामने आया है। ये सर्वे 12 राज्यों की 48 लोकसभा सीटों पर किया गया है। दरअसल बिहार में जातियों की गिनती हो गई है और अब पटना में ऑल पार्टी मीटिंग भी शुरू हो चुकी है। नीतीश कुमार, तेजस्वी यादव, विजय सिन्हा, जीतनराम मांझी समेत सभी नेता जातिगत सर्वे का डाटा देख रहे हैं। इस पर विश्लेषण हो रहा है लेकिन इस जाति की गिनती का साल 2024 के चुनाव में क्या असर पड़ेगा? बिहार का जाति सर्वे तो हो गया, लेकिन इस सर्वे का आगे क्या होगा? ये जानने के लिए इंडिया टीवी-CNX का सर्वे हुआ है। 

बिहार में जातियों की गिनती में क्या सामने आया?

बिहार में पिछड़ा यानी OBC 27.12% है। वहीं अति पिछड़ा यानी EBC 36% है। पिछड़ा और अति पिछड़ा को मिला दें तो ये 63% होता है। यही सबसे बड़ा नंबर है। वहीं दलित यानी SC बिहार में 19.65% हैं। आदिवासी यानी ST 1.68% हैं। इन दोनों को OBC और EBC से मिला दें तो आंकड़ा 84% से ऊपर चला जाता है। बाकी बचे सवर्ण तो बिहार में 15.52% सवर्ण हैं। 

बिहार में सवर्ण हिंदू के अंदर 4 ही प्रमुख जातियां हैं। ब्राह्मण, राजपूत, भूमिहार और कायस्थ। 90 के दशक में लालू यादव ने इन्हीं चार जातियों के लिए “भूरा बाल” साफ करो का नारा दिया था। तब नीतीश कुमार भी उनके साथ ही थे। वो दिन और आज का दिन, बिहार के हिंदू सवर्णों के लिए एक ही च्वॉइस है।

बिहार में जातियों की गिनती हुई तो ब्राह्मण 3.66% निकले, राजपूत 3.45%, भूमिहार 2.86% और कायस्थ 0.60% मिले। इन 4 सवर्ण जातियों की आबादी जोड़ने से 10.56% होती है। यही हिंदू सवर्ण हैं। बिहार में आगे इसी नंबर पर सियासत होगी। 15.52% सवर्ण जातियों में से हिंदू सवर्ण को घटाएं तो 4.96% मुस्लिम सवर्ण यानी अशराफ मुसलमानों का डेटा मिलता है। बिहार पहला राज्य है जहां 17.7% मुसलमान भी जातियों में बांट दिए गए हैं। 4.96% अशराफ मुसलमान और 12.74% पसमांदा मुसलमान जिनको OBC और EBC कैटेगरी में रखा गया है।

ओबीसी किसे बनाएंगे प्रधानमंत्री?

सर्वे में सामने आया है कि 64 फीसदी ओबीसी नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री के तौर पर देखना चाहते हैं। 15 फीसदी राहुल गांधी और 3 फीसदी नीतीश कुमार को पीएम पद पर देखना चाहते हैं। अरविंद केजरीवाल को भी 3 फीसदी, अखिलेश यादव को 5 फीसदी और अन्य को 10 फीसदी लोग पीएम के तौर पर देखना चाहते हैं। 

  • नरेंद्र मोदी- 64%
  • राहुल गांधी- 15% 
  • नीतीश कुमार- 3%
  • अरविंद केजरीवाल-  3%
  • अखिलेश यादव-  5%
  • अन्य- 10%

राहुल की सियासत क्या है?

राहुल ने भी OBC + EBC + SC + ST जोड़कर 84% का नंबर दिखा दिया। राहुल लिखते हैं जितनी आबादी, उतना हक़। कुछ दिन पहले राहुल ने लोहिया और कांशीराम का नारा रिपीट किया था कि ‘जिसकी जितनी संख्या भारी उसकी उतनी हिस्सेदारी’। OBC पर राहुल गांधी की पॉलिटिक्स और 85-15 के नये फॉर्मूले के फलसफे को समझें तो बीजेपी की ओर झुके सवर्ण वोट से अब INDIA अलायंस को कोई उम्मीद नहीं दिख रही। दिखनी भी नहीं चाहिए, क्योंकि पिछले चुनाव के आंकड़े भी यही कहते हैं।

2019 के चुनाव में बिहार के 51% सवर्ण वोट बीजेपी को मिले थे। 23% सवर्ण वोट नीतीश कुमार की पार्टी JDU को मिले थे और 7% सवर्ण वोट लालू की पार्टी RJD के खाते में गए थे। 2019 में JDU का बीजेपी के साथ अलायंस था। यानी जहां JDU को मिले सवर्ण वोट भी असल में बीजेपी के ही वोट थे। 51% और 23% को जोड़ने से 74% होता है। बिहार में 10.56% हिंदू सवर्ण वोटर्स के बीच ये नरेंद्र मोदी की पार्टी का पेनेट्रेशन है।

लालू और नीतीश की पार्टी OBC और EBC वोटर्स के बीच अपनी पैठ बढ़ाना चाहती है। राहुल गांधी इसे ही नेशनल लेवल पर इंप्लीमेंट करना चाहते हैं। लेकिन 2019 चुनाव के आंकड़े अलग इशारे करते हैं। 

ये भी पढ़ें: 

बिहार: पटना में जातीय गणना को लेकर चल रही सर्वदलीय बैठक, CM नीतीश कुमार समेत ये नेता मौजूद 

Earthquake: दिल्ली-एनसीआर में भूकंप के तेज झटके, उत्तराखंड में भी हिली धरती, नेपाल में घर गिरे

Latest India News



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss