35.1 C
New Delhi
Sunday, April 21, 2024

Subscribe

Latest Posts

भारत, फ्रांस और संयुक्त अरब ने बनाया त्रिपक्षीय मंच, पाकिस्तान और चीन चिंताजनक


छवि स्रोत: फ़ाइल
भारत, फ्रांस और स्थिति में त्रिपक्षीय सहयोग (फ़ाइल)

नई दिल्ली। भारत, फ्रांस और संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) ने शनिवार को एक त्रिपक्षीय मंच बनाने का ऐलान किया है। इसके तहत तीनों देश परस्पर रक्षा सहयोग, सौर और परमाणु ऊर्जा के क्षेत्र में परस्पर कार्य करेंगे। भारत, फ्रांस और इस संगठन से पाकिस्तान और चीन चिंतित हो सकते हैं। इस मजबूत साझेदारी और सहयोग से हाल ही में संयुक्त अरब से भी प्रभावित होने वाला पाकिस्तान और कुछ दिनों पहले इसी देश की यात्रा पर गए चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग को निश्चित रूस से चिंता सताने लगी होगी। क्योंकि चीनी राष्ट्रपति अरब देशों के साथ व्यापार और सहयोग बढ़ाकर कुछ दिन पहले ही यात्रा करके वापस लौट जाते हैं। वहीं पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शाहबाज शरीफ भी हाल में ही गए थे, वहीं उन्होंने अपने देश के लिए शर्मिंदगी से कर्ज मांगा था। इसके बाद खुद से पहले यह बात बताई गई थी कि उन्हें कर्ज मांगते हुए शर्म आ रही थी, लेकिन हिम्मत जुटाकर कर्ज मांगा।

अब उसी शीट के साथ भारत और फ्रांस ने मिलकर बड़ा समझौता किया है। इसके तहत सुरक्षा, परमाणु ऊर्जा और प्रौद्योगिकी क्षेत्रों में सहयोग के लिए तीन देशों ने एक रूपरेखा रूपरेखा पेश की। इन देशों के विदेश मंत्री आपस में फोनर पर बातचीत भी करते हैं। इसके बाद एक संयुक्त बयान जारी कर बताया गया कि तीनों पक्षों ने सौर और परमाणु ऊर्जा पर ध्यान देने के साथ-साथ ऊर्जा के क्षेत्र में परियोजना को क्रियान्वित करने पर सहमति बनाई है। तीनों देशों ने यह स्वीकार किया है कि रक्षा तीन देशों के बीच घनिष्ठ सहयोग का क्षेत्र है। इसलिए तीन देशों की रक्षा सेनाओं के बीच सहयोग और प्रशिक्षण के रास्ते तलाशने के प्रयास शुरू होंगे। इससे पड़ोसी देशों की एक दूसरी तकनीक और कौशल को सीखने का अवसर भी मिलेगा।

एक साल पहले ही इसकी रूपरेखा तैयार की गई थी

भारत, फ्रांस और योजनाओं के बीच यह समझौता अचानक नहीं हुआ, बल्कि इसके लिए करीब एक साल पहले ही रूपरेखा तैयार की जा चुकी थी। तीनों देशों के विदेश मंत्री ने कहा कि त्रिपक्षीय आरंभिक परियोजना पर उनके देशों के विकास के पैकेट के बीच सहयोग का विस्तार करने के लिए एक मंच के रूप में काम करते हैं। इससे सभी देशों को फायदा होगा। 19 सितंबर 2022 को तीनों देशों के विदेश मंत्रियों ने त्रिपक्षीय ड्राफ्ट के तहत पहली बार बैठक की थी। इस दौरान आपसी हितों के विभिन्न क्षेत्रों में सहयोग का विस्तार करने के लिए एक अधिकृत त्रिपक्षीय गठबंधन की स्थापना करने पर सहमति बनी थी। अब भारत, फ्रांस और स्थिति ने रक्षा सहयोग, सौर ऊर्जा और परमाणु ऊर्जा के क्षेत्र में परस्पर कार्य करने और एक दूसरे का भरपूर सहयोग करने पर काम शुरू कर दिया है। इससे पाकिस्तान और चीन में व्याकुलता ने बाजी मारी है।

नवीनतम विश्व समाचार

इंडिया टीवी पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी समाचार देश-विदेश की ताज़ा ख़बरें, लाइव न्यूज़फॉर्म और स्पीज़ल स्टोरी पढ़ें और आप अप-टू-डेट रखें। दुनिया भर की खबरें हिंदी में के लिए क्लिक करें विदेश सत्र



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss