25.1 C
New Delhi
Wednesday, April 17, 2024

Subscribe

Latest Posts

यूएनएससी की ऑर्बसाइट के लिए भारत को अब नहीं कर सकते नजरअंदाज, कंबोज ने कहा-”जटिल सोसायटी पर दुनिया को दिशा दिखाने की क्षमता”


छवि स्रोत: फ़ाइल
यूएनएससी में बोलती भारत की मतदाता प्रतिनिधि रुचिरा कंबोज।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 9 साल के नेतृत्व में भारत दुनिया की नई ताकत उभर रही है। अंतर्राष्ट्रीय संघर्षों और विश्वव्यापी विचारधाराओं के बीच भारत में विश्व को दिशा देने की क्षमता है। कॉम्प्लेक्स के बीच भी भारत के सभी देशों के साथ बातचीत की जाती है। भारत विश्व का सर्वाधिक जनसंख्या वाला देश है। ऐसे में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में अब लंबे समय तक के लिए पोस्ट ऑफिस पद पर नियुक्ति नहीं हो सकेगी। भारत कंपनी मजबूत और प्रमाणित है।

संयुक्त राष्ट्र में भारत के प्रतिष्ठित प्रतिनिधि रुचिरा कंबोज ने कहा है कि भारत की प्रतिष्ठा उन्हें विभिन्न शक्ति समूहों के साथ संयुक्त रूप से शामिल करने में सक्षम बनाती है और जटिल नामांकन मामलों में दिशा की उनकी क्षमताएं उन्हें अंतर्राष्ट्रीय संघर्षों में से एक मध्यस्थ के रूप में प्रस्तुत करती हैं। में पेश करता है. कंबोज ने यहां कहा, ”तीव्र बदलावों और जटिल चित्रण वाले युग में भारत में केवल अत्यंत विविधता और सांस्कृतिक समृद्धि वाले देश स्पष्ट रूप से कोई बड़ी बात नहीं है, बल्कि यह सहयोग, शांति और सहिष्णुता सम्मान के सिद्धांतों को एक अंतरराष्ट्रीय मंच पर अपनाते हैं।” भूमिका भी निभाती है।

भारत का विश्व में विशिष्ट स्थान

कंबोज ने कोलंबिया विश्वविद्यालय के ‘स्कूल ऑफ इंटरनेशनल एंड पब्लिक अफेयर्स’ के दीपक और नीरा राज सेंटर द्वारा पिछले सप्ताह आयोजित ‘भारत: नई सदी’ सम्मेलन में ‘उभरती विश्व व्यवस्था में भारत’ विषय पर एक विशेष भाषण के दौरान कहा कि भारत प्राचीन है। दर्शन ‘वसुधैव कुटुंबकम’ उसे वैश्विक मामलों में एक मध्यस्थ और समाधानकर्ता के रूप में विशिष्ट स्थान देता है। कम्बोज ने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय समुदाय ने विभिन्न देशों के बीच बातचीत और समझ को बढ़ावा देने के प्रस्ताव को लेकर भारत का एग्री-सरकारी दृष्टिकोण देखा है। उन्होंने कहा, ”भारत की राष्ट्रीय स्थिति और इसके गुट निरपेक्ष इतिहास के अलावा इसे विभिन्न शक्ति विचारधारा के साथ जोड़ने में सक्षम बनाना है।’

भारत की मित्रता के साथ विभिन्न विचार धाराएँ और सावन वाले देश

कंबोज ने कहा, ”भारत ने दर्शाया है कि देश के साथ मैत्रीपूर्ण संबंध बनाए रखना संभव है।” जटिल मामलों में दिशा की ओर इशारा करते हुए यह क्षमता भारत को अंतरराष्ट्रीय संघर्षों में एक मध्यस्थ के रूप में पेश करती है।” राजनीतिक परिदृश्य में नेतृत्व करने वाले देश की क्षमता को दर्शाया गया है। कंबोज ने कहा कि तेजी से अस्थिर भू-रणनीति और भू-आकृतिक महाद्वीप में खुद को ढालने में असमर्थता के कारण संयुक्त राष्ट्र अपने उद्देश्य को पूरा करने में सक्षम नहीं है।

भारत के इलेक्ट्रोनिक संस्था के दावे को अब ठंडे बस्ते में नहीं डाला जा सकता

कंबोज ने आश्वासन दिया कि संयुक्त राष्ट्र में सुधारों के मुद्दे को अब ठंडे बस्ते में शामिल नहीं किया जा सकता है और 21वीं सदी की समकालीन वास्तविकताओं को शामिल करने के लिए सुरक्षा परिषद की संरचना में बदलाव किए बिना यह प्रक्रिया पूरी तरह से संभव नहीं है। कंबोज ने कहा, ”दुनिया यह भी मानती है कि काउंसिल की नियुक्ति के लिए भारत के दावे को लंबे समय तक मंजूरी नहीं दी जा सकी।”

जनसंख्या, क्षेत्र, संप्रदाय (सकल घरेलू उत्पाद), आर्थिक क्षमता, सांस्कृतिक विविधता, सांस्कृतिक विविधता, राजनीतिक व्यवस्था, इतिहास और संयुक्त राष्ट्र का विभाजन – संयुक्त राष्ट्र शांति अभियान में विशेष रूप से जारी योगदान जैसे किसी भी वस्तु का आधार भारत सुरक्षा परिषद् की संस्था का संस्थान पूरी तरह से नामित है। (भाषा)

यह भी पढ़ें

नवीनतम विश्व समाचार



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss