35.1 C
New Delhi
Sunday, April 21, 2024

Subscribe

Latest Posts

IND vs WI: कुलदीप की चिंगारी ने जलाई भारत की जीत और फिर पुराने सवाल


छवि स्रोत: ट्विटर कुलदीप यादव एक्शन में

हाइलाइट

  • भारत ने 4-1 . के अंतर से श्रृंखला जीती
  • T20I में भारत के लिए यह पहली बार है जब सभी विकेट स्पिनरों द्वारा लिए गए
  • कुलदीप यादव ने 3 विकेट लिए और 12 रन दिए।

फ्लोरिडा| भारत ने रविवार को वेस्टइंडीज के खिलाफ आखिरी टी20 मैच जीतकर लगातार तीसरा खिताब अपने नाम किया। 5वां T20I भारतीय टीम के स्पिनरों के लिए एक मैच था। भारत क्रिकेट मैच में यह एक दुर्लभ क्षण था जहां स्पिनरों ने सभी विकेटों का दावा किया था। भारतीय स्पिनरों की उंगली का जादू वेस्टइंडीज टीम पर इस हद तक हावी हो गया कि वे एक टी20ई मैच में मुश्किल से 100 रन का आंकड़ा छू सके और गिर पड़े। इसके परिणामस्वरूप भारतीय टीम को 88 रनों के विशाल अंतर से आसान जीत मिली और 4-1 के स्कोर के साथ श्रृंखला का समापन किया।

पूरी सीरीज के दौरान भारतीय खिलाड़ियों ने या तो अपने बल्ले से या फिर गेंद से कैरेबियाई टीम पर अपना दबदबा कायम रखा है. इस सीरीज में टीम ने जिस ब्रांड का क्रिकेट दिखाया है, वह कुछ ऐसा है जिसे हर भारतीय प्रशंसक बहुत लंबे समय से देखना चाहता था। लेकिन 5वें T20I के बाद भारतीय स्पिनिंग वर्ग के लिए बहुत कुछ बदल गया है। खेल के सबसे छोटे प्रारूप में कलाई की स्पिन के भविष्य को लेकर पहले भी सवाल उठाए गए थे।

एशिया कप, दक्षिण अफ्रीका श्रृंखला और ऑस्ट्रेलिया श्रृंखला को ध्यान में रखते हुए, जो इस साल के अंत में ICC T20I विश्व कप के लिए एक नेतृत्व के रूप में कार्य करेगी, भारत के पास स्पिन गेंदबाजी विकल्प की बहुतायत है जो कि सबसे बड़े स्तर पर उनकी सबसे बड़ी ताकत हो सकती है।

भारत वर्ष की शुरुआत से ही अपने दस्ते को बड़े पैमाने पर विकसित कर रहा है और अब परिणाम प्राप्त कर रहा है। अचानक हुए बदलाव में कुलदीप धमाकेदार तरीके से पहुंचे हैं और टीम को जब उनकी जरूरत थी तब उन्होंने अच्छा प्रदर्शन किया है। कुलदीप का पुनरुत्थान तब शुरू हुआ जब उन्हें इस साल आईपीएल फ्रेंचाइजी दिल्ली कैपिटल द्वारा चुना गया था और तब से उन्होंने हर खेल में सुधार किया है। उन्होंने 4 ओवर के अपने कोटे में 12 रन देकर 3 विकेट का शानदार आंकड़ा दर्ज किया। कुलदीप का प्रदर्शन निश्चित रूप से कुछ गंभीर सवाल खड़े करता है। क्या द्रविड़-रोहित की जोड़ी स्पिनर को आउट करने के लिए सही समय का इंतजार कर रही थी? क्या यह कोहली-चहल के मजबूत बंधन के कारण उन्हें मिलने वाले अवसरों की कमी थी?

जो भी परिदृश्य हो, यादव का भविष्य काफी हद तक आगामी एशिया कप पर निर्भर करता है और टीम प्रबंधन उसका उपयोग कैसे करना चाहता है।

ताजा किकेट समाचार



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss