हर्टनटन कोरोना संकट (कोरोनावायरस का डेल्टा वेरिएन) के अमेरिकी (अमेरिका) के लिए खतरा बन गया है। प्रमुख रोग विशेषज्ञ डॉक्‍टर एंथनी फाउसी (एंथनी फौसी) ने चेतावनी दी है कि यह खतरनाक बन गया है। इस तरह के व्यवहार का भी ऐसा ही होता है। भारत में

सार्वजनिक क्षेत्र जैसे बनो
व्हाइट हाउस (व्हाइट हाउस) में प्रेस ब्रीफिंग में एंथोनी फौसी (एंथनी फौसी) ने अमेरिका में आने वाले 20 अपडेट्स को अपडेट किया। दो सप्ताह तक ये 10 प्रतिशत तक लागू होता है। उन्होंने कहा कि जिस तरह के हालात ब्रिटेन में हैं, वैसे ही हालात यहां भी दिखाई देने शुरू हो गए हैं। इस प्रकार अलर्ट

COVID डेल्टा+ वैरिएंट: देश के 4 यों में इकाइयाँ का डेल्‍टा ‍‍‍‍‍‍‍‍‍लां, अब तक 40 मामले

तेज़ गति से काम नहीं कर रहा है
एंटिफी ने अगर हवा में प्रदूषण किया, तो यह हवा में रंग बदलने के लिए भी प्रभावी होगा और अगर ऐसा है तो यह कीटाणु भी बदल जाएगा।.. . . . . . . . . . ओर से निकलने के बाद भी वायु प्रदूषण के कारण होने वाला प्रदूषण है । I 8 मई के आस-पास ये स्थान 1.2 से 2.7 और 9.9 था। दो दिन में ही ये 20.6 तक मिला। इसलिए सावधान रहें।

युवाओं
दैनिक ब्रीफिंग में एंथनी फाउडी ने कहा, ‘अच्छी छीक्छी खबर ये है कि अमेरिका की कोरोना वैक्क् जैसी ड्यल्‍टा हवा पर भी है। यह है कि जब यह खतरे से सुरक्षित है, तो ऐसा करने का कोई जोखिम नहीं है।’

सबसे खतरनाक है
विश्व स्वास्थ्य संगठन ने विश्व स्वास्थ्य संगठन की स्थापना की। B.1.617.2 और K417N, जो भी ऐसा ही है। लागू होने के बाद भी यही लागू होता है।

विश्व के 60 से अधिक ने डॉल्‍टा के मामले में शामिल हैं। इस वैरिएंट को ‘वेरबलबल कंसर्न’ का मतलब खतरनाक या बेहतर है।

कोरोना की लहरों से बचाने के लिए, इन्फ्लुएंजा का टिका, जानें फायदे?

संचार में
जानकारों का कहना है कि डेल्‍टा प्‍लस में वायु भारत में तूफान का प्रकोप होता है। पर्यावरण के लिए आवश्यक हैं।

.