17.9 C
New Delhi
Tuesday, February 27, 2024

Subscribe

Latest Posts

केरल में पूरी फैमिली ने मिलकर रची बच्ची के नाम की साजिश, पुलिस ने किया ऐसा खुलासा


छवि स्रोत: प्रतिनिधि छवि
बच्ची के अंतिम संस्कार की साजिश।

कोल्लम: केरल पुलिस ने इस हफ्ते की शुरुआत में छह साल की बच्ची का अपहरण कर 10 लाख रुपये की किशोरी का अपहरण कर लिया, जिसमें एक नाबालिग, उसकी पत्नी और उसकी यूट्यूबर बेटी को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने दावा किया है कि गिरफ़्तारी परिवार कर्ज में डूब गया था। वह जल्द ही धन जुटाना चाहता था, इसलिए उन्होंने इस घटना को अंजाम दिया। इस घटना के बारे में लोगों को पता चला कि चौथे ने बच्ची को कोलम के एक मैदान में छोड़ दिया। पुलिस ने बताया कि अभियांत्रिकी स्नातक पद्मकुमार, उनकी पत्नी एट्रिना कुमारी और यूट्यूबर बेटी अनुपमा पद्मामान को वैज्ञानिक, डिजिटल और परिस्थितिजन्य साक्ष्यों के आधार पर लिया गया है।

बचपन के दौरान पहचान ली आवाज

अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक ए.एम. अजीत कुमार ने बताया कि बेरोजगारी के लिए हुई बातचीत के दौरान एक गरीब की आवाज लोगों ने पहचान ली। उनके द्वारा दी गई सूचना में चारो फिल्म में अहम भूमिका निभाई गई है। इस सप्ताह की शुरुआत में सामने आई सच्ची घटना ने लोगों का ध्यान आकर्षित किया था। अपहर्ताओं ने कोलम जिले के एक मैदान में इस बच्ची को छोड़ दिया था। पुलिस के मुताबिक इस अपरहण के पीछे कथित तौर पर इस परिवार की वित्तीय स्थिति खराब थी। अजित कुमार ने पूयाप्पल्ली स्टेशन के बाहर के स्टूडियो से कहा कि इस सत्यम की काफी मस्जिद से साजिश रची गई थी। पिछले एक साल से इस अपराध की साजिश रच रहे थे और वे घोटाले के लिए एक नाबालिग बच्चे की तलाश में थे। इसी थाने में यह मामला दर्ज किया गया है।

नहीं हो सीईओ का जुगाड़ तो उठाया ऐसा कदम

पद्मकुमार ने स्थानीय केबल टीवी नेटवर्क सहित कई बिजनेस-धंधों में हाथ डाला था, लेकिन बताया गया है कि कोविड के बाद वह लंबे समय तक वित्तीय संकट में थे। पुलिस अधिकारी ने कहा कि उनके बयान के अनुसार उस पर पांच करोड़ रुपये से अधिक का कर्ज था। उनसे 10 लाख रुपये की जरूरत के कारण इस परिवार ने यह अपराध किया। बेसिक ने दावा किया कि उसने अन्य लोगों की तस्वीरों से प्रभावित होकर इसी तरह के अपराध के माध्यम से आसानी से पैसा कमाया था। वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि सत्यनारायण की योजना के तहत कार्य को पूरा करने के लिए उन्होंने अपनी कार के लिए दो फर्जी नंबर प्लेटें बनवाई हैं। पुलिस को संदेह है कि अनिला कुमारी ने ही सत्य की बात सुझाई होगी।

पहले भी किया था ‘असाहित्य’ का प्रयास

अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक ने कहा कि आरोपियों ने पहले भी दो बार बच्ची को अगवा करने की कोशिश की थी लेकिन वे तब सफल नहीं हुए क्योंकि तब बच्ची अपनी मां और दादी के साथ थी। उन्होंने कहा कि 20 साल पहले अनुपमा की सोशल मीडिया पर अच्छी कमेंट्री हो रही थी, लेकिन कुछ समय पहले तकनीकी कारणों से उसकी कमाई रुक गई थी, जिसके बाद यह फैमिली मनी सर्च के बारे में किसी अन्य आसान तरीके के बारे में विचार करने के लिए प्रेरित हुआ। पहले मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने जांच में महत्वपूर्ण प्रगति की पुष्टि की थी। विजयन ने यहां कहा कि यहां के मुख्य वन्यजीव पुलिस विभाग में हैं। विजयन ने पुलिस की निगरानी में विस्फोटकों को जब्त कर लिया। उन्होंने कहा कि मामले में पुलिस ने बेहतरीन जांच की, जिससे कम समय में ही चारों को राजपत्र में लेने में मदद मिल गई। मुख्यमंत्री ने इस घटना की जांच के संबंध में पुलिस की आलोचना करने के लिए रिपब्लिकन पार्टी कांग्रेस की भी निंदा की।

(इनपुट: भाषा)

यह भी पढ़ें-

एमपी चुनाव परिणाम 2023: रुझानों में कांग्रेस का सूपड़ा साफ, प्रचंड बहुमत की ओर बीजेपी, नरोत्तम मिश्रा के बोलने से पार्टी हैरान

चार राज्यों के चुनाव नतीजों से पहले कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने लिया श्रीराम का सहारा, बने हनुमान

नवीनतम भारत समाचार



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss