29.1 C
New Delhi
Friday, July 19, 2024

Subscribe

Latest Posts

“अगर बिजली चली गई तो हम बच्चों को किसी भी समय पता चल सकता है”, गाजा अस्पताल ने दी मुफ्त मदद


छवि स्रोत: एपी छवि
इजराइल हमास युद्ध का ट्रैक्टर मंज़र

इजराइल और हमास के बीच जंग दिन-ब-दिन हल्दी जा रही है। ऐसे में गाजा पट्टी पर रह रहे लोगों पर संकट लगातार बढ़ रहा है। इस बीच गाजा हॉस्पिटल ने अपनी समस्या पूरी दुनिया के सामने रखी है। गाजा हॉस्पिटल ने दी जानकारी अगर हॉस्पिटल में बिजली जाती है तो उनके लिए बड़ा संकट पैदा हो सकता है। गाजा हॉस्पिटल की ओर से कहा गया था कि फिलीस्तीनी इलाके में अगर उनके इनक्यूबेटर में बिजली गिर जाए तो अस्पताल में भर्ती नवजातों की कुछ ही मिनटों में मौत हो सकती है।

फुल हो रहे ख़त्म

हॉस्पिटल ने कहा कि गाजा नवजात गहनता देखभाल इकाई के डॉक्टर अपने नन्हें-मुन्नों के लिए जेल और शिष्या आश्रम के लिए संघर्ष कर रहे हैं, जो इजरायली घेराबंदी वाले फिलीस्तीनी इलाके में है, हम अगर यहां इनक्यूबेटर बिजली खो देते हैं तो कुछ ही मिनट में बच्चों की मृत्यु हो सकती है। गाजा सिटी के अल-शिफा अस्पताल में डॉक्टर नासिर बुलबुल ने कहा, “हम सभी इस महत्वपूर्ण विभाग के लिए आवश्यक चिकित्सा आपूर्ति आपूर्ति की आपूर्ति करते हैं अन्यथा हमें भारी तबाही का सामना करना पड़ता है।”

दुनिया से की मदद की अपील

वहीं, गाजा स्वास्थ्य मंत्रालय के प्रवक्ता अशरफ अल-किद्रा ने कहा कि गाजा स्ट्रिप्स में इलेक्ट्रिक इनक्यूबेटरों में 130 नवजात शिशु थे। खास कर गाजा के 13 सार्वजनिक पैकेज में से सबसे बड़े शिफा अस्पताल में बंगले और जंगल खत्म हो रहे थे और ये “टैंकरों के बिल्कुल नीचे” थे। उन्होंने कहा, “हमारे इनक्यूबेटरों जलेल को सबसे आवश्यक जीवन रक्षक सेवाओं में बदल दिया गया है, लेकिन हम नहीं जानते कि यह कितना समय तक चला।” उन्होंने आगे कहा, ”हम पूरी दुनिया से जंगल के लिए मदद करने की अपील कर रहे हैं।” आप उसे दान कर सकते हैं।”

23 लाख लोग जीने के लिए संघर्ष कर रहे हैं

जानकारी दे रही है कि हमास के वैज्ञानिकों ने 7 अक्टूबर को इजरायली गुट पर हमला किया था, जिसके बाद इजरायल ने हमास पर गाजा पट्टी पर सबसे घातक हवाई हमले किए और यहां पूर्ण नाकाबंदी दी, जिसमें 1,400 लोग मारे गए और 200 से अधिक लोगों को बंधक बनाया गया। बना लिया गया. दुनिया के सबसे भीड़-भाड़ वाले स्थानों में से एक, छोटे फिलीस्तीनी एन्जिल रिजर्व में 23 लाख लोगों के लिए पानी, भोजन, दवाइयाँ और भोजन की तलाश हो रही है और गाजा के डॉक्टर हिस्से को चालू रखने के लिए संघर्ष कर रहे हैं।

14 लाख लोग

इस बीच एक मिस्र की ओर से तीसरी बार मदद के लिए काफिला सोमवार को गाजा की ओर जाने वाले राफा क्रॉसिंग में हार हुई, पर ये व्यवस्था नहीं है। जानकारी दे दे कि हाल ही में यूएन ने कहा था कि फिलीस्तीन को प्रतिदिन 100 ट्रक की जरूरत है। जानकारी में कहा गया है कि 7 अक्टूबर को इजरायली हवाई हमले में कम से कम 5,087 फिलिस्तीनी मारे गए, जिनमें 2,055 बच्चे शामिल थे, और 15,000 से अधिक लोग घायल हुए थे। संयुक्त राष्ट्र मानवतावादी कार्यालय (ओसाईएचए) ने कहा कि गाजा की 23 लाख आबादी में से लगभग 14 लाख लोग अब यात्रा कर चुके हैं, जिनमें से कई लोग संयुक्त राष्ट्र आपात्कालीन सेल्टर में शरण ले रहे हैं।

दो महिलाओं को निर्वासित किया गया

इस बीच हमास ने दो बुजुर्ग महिलाओं को उनकी कैद से आजाद करने की घोषणा की है। जानकारी दे कि ये दोनों महिलाएं इजराइल की नागरिक हैं और गाजा पट्टी से ही इन्हें हमास ने बंधक बनाया था।

ये भी पढ़ें:

भारत-कनाडा विवाद विवाद पर ब्रिटेन और अमेरिका ने बदला रुख, कही ये अहम बात

नवीनतम विश्व समाचार



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss