30.1 C
New Delhi
Thursday, June 20, 2024

Subscribe

Latest Posts

इजराइल के समर्थन में पोस्ट में लिखा है, तो इस मुस्लिम देश ने भारतवंशी डॉक्टर के साथ किया ऐसा सलूक


छवि स्रोत: सोशल मीडिया
भारतवंशी डॉक्टर ने इजराइल के समर्थन में पोस्ट किया।

इज़राइल हमास युद्ध: इजराइल और हमास में जंग जारी है। इस संघर्ष में मुस्लिम विशेष रूप से खाड़ी देशों के मुस्लिम देश हमास का समर्थन कर रहे हैं। इसी बीच एक भारतवंशी डॉक्टर को इस जंग इजराइल का साथ देना भारी पड़ गया। इस डॉक्टर ने इज़राइल के समर्थन में सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ‘एक्स’ पर पोस्ट किया। इस मुस्लिम देश में रह रहे हैं भारतीय इस डॉक्टर के साथ गाली-गलौज।

अस्पताल प्रशासन ने नौकरी से बाहर निकाला

इजराइल और हमास के बीच संघर्ष में एक भारतीय मूल के डॉक्टर को इजराइल के समर्थन में पोस्ट करना भारी पड़ गया। बहरीन के रॉयल हॉस्पिटल में काम करने वाले डॉक्टर ने सोशल मीडिया पर फिलिस्तीन विरोधी टिप्पणी कर दी। इस कारण उन्हें अस्पताल प्रशासन ने नौकरी से बेदखल दिया। फिलिस्तीन के समर्थन में भारतीय मूल के डॉक्टर सुनील राव ने जो ट्वीट किया था. उसे एक फोटोग्राफर ने बधाई देते हुए बहरीन के अधिकारियों से शिकायत कर दी। इसके बाद बहरीन के अस्पताल प्रशासन ने माइक्रोब्लॉगिंग साइट एक्स (पहले ट्विटर) पर एक ट्वीट में डॉ. के बारे में बताया। सुनील राव ने आरोप लगाया कि कथित तौर पर इजराइल के समर्थन में ट्वीट करने के कारण उनकी नौकरी खत्म कर दी गई।

डॉक्टर की पोस्ट से अस्पताल इत्तेफाक नहीं

अस्पताल ने अपने बयान में कहा, ‘यह हमारे समुदाय में आया है कि चिकित्सा विभाग में काम कर रहे हैं। डॉक्टर सुनील राव ने सोशल मीडिया पर इजराइल के समर्थन में पोस्ट किया है कि जो हमारे समाज के लिए दवाब की बात करते हैं।’ हम इस बात की पुष्टि करते हुए कहते हैं कि उनके ट्वीट और अलग-अलग निजी हैं, उनका अस्पताल इत्तेफाक नहीं है। ऐसे ट्वीट हमारी आचार संहिता का उल्लंघन है और इसके लिए कानूनी कार्रवाई की आवश्यकता है। यही कारण है कि हॉस्पिटल से डॉक्टर सुनील राव की नौकरी खत्म हो गई है।

अमेरिका फ्रैंक इजराइल के साथ

उत्तर, इजराइल और हमास के बीच जारी जंग में लगातार बढ़ोतरी हो रही है और विभिन्न देशों को लेकर अलग-अलग देशों ने अपनी राय स्पष्ट कर दी है। अमेरिका फ्रैंक अपने मित्र इजराइल का समर्थन कर रहा है। 7 अक्टूबर को जब हमास ने इजराइल पर तीन ओर से खूनी हमला किया, तब अमेरिका अपने पारंपरिक मित्र इजराइल के साथ था। इसके बाद अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन और फिर अमेरिकी राष्ट्रपति जो मैजेंटा ने इजराइल पर हमला किया और अपना समर्थन दिया। इसी बीच अब अमेरिका ने इस जंग के बीच चेतावनी जारी की है कि अगर उनके किसी सैनिक की जान जाती है तो जिम्मेदारों पर वह कड़ी कार्रवाई करेंगे।

नवीनतम विश्व समाचार



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss