18.1 C
New Delhi
Tuesday, November 28, 2023

Subscribe

Latest Posts

कैसे समझें कि हम अवसाद में हैं?


छवि स्रोत: सामाजिक
करण जौहर डिप्रेशन

कॉफी विद करण सीजन 8 में फिल्म आखिरी करण जौहर (करण जौहर डिप्रेशन) ने अपने मानसिक स्वास्थ्य को लेकर एक बड़ा खुलासा किया। इस दौरान उन्होंने बताया कि कैसे वो एनएमएसीसी इवेंट के दौरान अचानक से अवसाद के आभास को महसूस हो गए। इतना ही नहीं ऐसे-तैसे जब वो घर पहुंचे तो अकारण ही रोने लगे और बहुत दुखी हो गए। उन्हें कुछ समझ नहीं आ रहा था कि उनका साथ क्या हो रहा है। क्या वो अवसाद में हैं या फिर सिर्फ ये एक अंगजयी हमला था। हालाँकि, उन्होंने फिर डॉक्टर को दिखाया और उनका इलाज चल रहा है। लेकिन, ये मुद्दा सिर्फ करण जौहर की नहीं है बल्कि, आज के समय में बहुत से लोगों की है। ऐसे में अवसाद और अंग्रेजी को लेकर कुछ जरूरी सवाल जानना जरूरी है। इसी बारे में हमने डॉ. राहुल राय कक्कड, कंसल्टेंट साइकोलॉजी एंड बेस्टल साइकोलॉजी, नारायणा हॉस्पिटल, गुड़गांव से बात की।

कैसे समझें कि हम अवसाद में हैं?

जब हम अवसाद में होते हैं तब हमारा मस्तिष्क पूरी तरह से वास्तविक समय के अनुसार काम नहीं करता है, हम-कभी-कभी किसी एक बात को लेकर बैठे रहते हैं और सोच में डूबे रहते हैं। हम हमेशा तनाव में रहते हैं, कभी-कभी चिंता होती है, कभी हमारा मूड ऑफ होता है, कभी उदासी सी रहती है, मन उदास रहता है और ये लक्षण जीवन में हमेशा नहीं आते इसलिए आपको अगर इस प्रकार के लक्षण लगातार महसूस हो रहे हैं तो समझ लीजिए कि आप अवसाद में हैं। क्योंकि जब आप अवसाद के तलब में होते हैं, तब आपका सामान्य काम भी प्रभावित होने लगता है और आप समाज से कटने लगते हैं, यह आपको तुरंत पता नहीं चलता है, लेकिन कुछ समय बाद आपको आभास होता है कि आपके साथ ऐसा हो रहा है, इसलिए ऐसे दस्तावेज़ों पर ध्यान दें और जब भी आपको लगे कि आप अवसाद में हैं तो किसी मनोचिकित्सक से संपर्क करें।

चीनी या गुड़, हाई कोलेस्ट्रॉल के रोगियों को किसका सेवन करना चाहिए? जानें क्या है कार्मिक प्रबंधन

अवसाद का पहला लक्षण क्या है?

डिप्रेशन का लक्षण हर व्यक्ति में उम्र और लिंग के हिसाब से अलग-अलग होता है। पुरुषों में अलग-अलग प्रकार के लक्षण दिखाई देते हैं तो वहीं महिलाओं में अलग-अलग प्रकार के लक्षण दिखाई देते हैं और बच्चों में अलग-अलग प्रकार के लक्षण दिखाई देते हैं क्योंकि उनके हाव-भाव के अनुसार ही उनके लक्षण भी दिखाई देते हैं। फिर भी अवसाद के कुछ सामान्य लक्षण जिन पर गौर करना बहुत जरूरी है जैसे

-अगर आप ज्यादातर समय परेशान रहते हैं
-निराशारहते हैं
-उलझे रहते हैं
-मानसिक तनाव में रहते हैं
-किसी को भी आनंदित साझेदारी में आपकी रुचि नहीं रहती
-आपका वजन पर इसका असर दिखता है
-आपकी नींद में परेशानी आ रही है।

क्या अवसाद केवल एक फाइलिंग है या सच में उस व्यक्ति में यह स्थिति है?

डिप्रेशन एक ऐसी फाइलिंग है जिसमें व्यक्ति की मानसिक स्थिति पर बुरा प्रभाव पड़ता है और वह उस कारण से बहुत तनाव में रहता है। उसके सिद्धांत में भी नकारात्मकता आ जाती है, उसकी विचारधारा का तरीका बदल जाता है और इस कारण से वह शारीरिक रूप से भी मजबूत हो जाता है, ऐसा लगता है कि अंदरुनी मानसिक तनाव के कारण वह झूता रहता है।

अवसाद रोग या चिंता

छवि स्रोत: सामाजिक

अवसाद रोग या चिंता

अवसाद और डिप्रेशन में कैसे काम करें?

एंजायटी का अर्थ है उदासी एक नाम इमोशन है, जबकि अवसाद एक प्रकार की मानसिक बीमारी है। अवसाद में हम उदासी का अनुभव कर सकते हैं। होते हैं, मानसिक तनाव में रहते हैं, उस स्थिति से निकल ही नहीं जाते, उसमें एक-दो दिन नहीं बल्कि उससे अधिक समय भी लग सकता है, अवसाद की स्थिति में हम लगभग कई महीनों तक किसी भी चीज़ में रुचि नहीं दिखाते, तलाश करते हैं का भी हमारा मन नहीं करता, दोस्तों से दूर होने की बात सामने आ रही है, ऐसा लगता है कि किसी एकांत जगह या फिर घर के अंदर हम बैठे हैं और जीवन हमें नीरस सी लग रहा है, लेकिन अंगजयी या उदासी कुछ समय के लिए रहती है उसके बाद नहीं रहना।

शरीर में ऑक्सीजन बढ़ाने का आसान और मजेदार तरीका, ये बीमारी दूर

दिलचस्प विचार ही अवसाद है या ये है शुरुआत?

रूढ़िवादी विचार ही अवसाद है ऐसा नहीं कह सकते, हां अगर किसी एक विचार को नकारात्मक भाव से हम हमेशा सोचते रहते हैं और उसे निकालते ही नहीं रहते हैं और हमारे दिमाग में यह बना रहे की सिर्फ नकारात्मकता ही उस विचार में हमें डुबोएगी तब यह विचार की शुरुआत हो सकती है. अवसाद में हम शुरुआती स्तर पर किसी एक विचार में उलझे रहते हैं और उस विचार को लेकर नकारात्मक भाव हमारे भारत में ही चलते हैं, जो निकलता नहीं, अगर यह विचार नहीं निकलता और हम उसके अंदर, उसके अंदर घुसते चले जाते हैं तब समझिए कि हम डिप्रेशन में ही जा रहे हैं। इसलिए इस समय सावधान रहें और किसी भी काउंसलर की मदद से किसी भी अच्छे मनोवैज्ञानिक से संपर्क करें।

(ये लेख सामान्य जानकारी के लिए है, किसी भी उपाय को अपनाने से पहले डॉक्टर से परामर्श लें)

नवीनतम स्वास्थ्य समाचार



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss