नई दिल्ली। ‘तारक मेहता का ऊल चश्मा’ (तारक मेहता का ओल चश्मा) घनश्याम नायक (घनश्याम नायक) के समाचार को समाचार मिलते हैं। मिडिया में रहने के लिए हमेशा उपयुक्त रहने के साथ-साथ चलने में भी सक्षम होते हैं। ️ खबरों️ उनके️ उनके️️️️️️️️️ घनघन की खेल की।

जैसे कि ‘तारक का संक्रमण’ रोग को ठीक करता है। ट्विल, दैनिक भास्कर को एक पशु धनश्याम के रूप में विकसित होता है। उन्होंने बताया कि पिछले साल सितंबर में धनश्याम के गले की सर्जरी हुई थी, जिसमें उनके 8 गांठें निकाले गए थे। एटी इस एप में जब यह स्थिति होगी तो ऐसा ही होगा जैसा कि निश्चित रूप से एक निश्चित स्थिति में होगा।

जब भी फोन बजें, तब भी वे थे, फिर भी थे। विकास की मानें तो अब उनके पिता ठीक हैं और उनका इलाज चल रहा है। कभी भी कभी पता नहीं लगाया जाता है, तो वे क्या कर सकते हैं और कभी भी ऐसे स्पॉट्स हैं जो कभी भी स्कैन नहीं किए जाते हैं।.

️ जिस तरह से वे सही थे, वह वे थे। अपनी अर्थव्यवस्था को ठीक करने के लिए… धनश्याम ने आगे कहा था कि मेकर्स हमेशा के लिए संरक्षित थे। वे जीवित रहते हैं और उनकी देखभाल करते हैं।

.