17.9 C
New Delhi
Tuesday, February 27, 2024

Subscribe

Latest Posts

तेलंगाना चुनाव में हारकर भी कैसे बने ‘बाजीगर’ बीजेपी?


छवि स्रोत: पीटीआई
एक रोड शो के दौरान तेलंगाना भाजपा प्रमुख और केंद्रीय मंत्री जी. किशन रेड्डी और सांसद के. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ लक्ष्मण

तेलांगना विधानसभा चुनाव में बीआरएक्स सत्ता से बाहर हो गई और कांग्रेस को बहुमत मिल गया। इस चुनाव में दूरदर्शन देखा तो तेलंगाना में भारतीय जनता पार्टी ने बहुत खराब प्रदर्शन किया, लेकिन जब चुनाव के आंकड़ों को देखा तो समझ लेना कि दक्षिण के इस राज्य में बीजेपी का दबदबा ही विजयी नहीं है, लेकिन माइक्रोकिट भी अवश्य प्राप्त करें। बीजेपी ने तेलंगाना में 8 प्राइमरी पर जीत हासिल की है और कांग्रेस ने 64 प्राइमरी पर झंडे फहराए हैं।

1 से 8 सीटों पर कब्ज़ा, वोट प्रतिशत भी दोगुना

जब आंकड़े पर नजर डालेंगे तो सलाम कि साल 2018 के चुनाव में बीजेपी ने सिर्फ 1 सीट की घोषणा की थी और इस चुनाव में भगवा पार्टी ने 8 सीट पर कमल की पेशकश की है। भारतीय जनता पार्टी के राज्य विधानसभा चुनाव में सीटों की संख्या अब 8 हो गई है, अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव से कुछ महीने पहले इस दक्षिण राज्य में बीजेपी की नामांकन संख्या में ये हिस्सा एक सूक्ष्म जीत कहा जा सकता है। इसके साथ ही 2023 के विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने अपना वोट प्रतिशत भी लगभग दोगुना कर लिया है। भाजपा का मत प्रतिशत 2018 में 7 प्रतिशत था, जो इस विधानसभा चुनाव में 13.88 प्रतिशत हो गया है।

बीजेपी के रेड्डी ने सीएम के क्रिक को हराया

इतना ही नहीं भारतीय जनता पार्टी ने पहले दो ज्वालामुखीय मठ बनाए थे, जिससे वर्तमान विधानसभा में उनके दल की संख्या तीन हो गई थी। बीजेपी नेता के.वेंकट रमन रेड्डी ने मुख्यमंत्री और भारत राष्ट्र समिति (बीआरएस) प्रमुख के.चंद्रशेखर राव और तेलंगाना प्रदेश कांग्रेस समिति (टीपीसीसी) प्रमुख रेवंत रेड्डी को एक बड़ा उलटफेर किया। रेड्डी ने अपने प्रतिद्वंद्वी प्रतिद्वंद्वियों के.चंद्रशेखर राव को 6,741 से हराया। हालाँकि, दूसरी तरफ भाजपा के सभी तीन अल्पसंख्यक चुनाव हार गए।

बीजेपी के टी राजा लगातार तीसरी बार जीतेंगे

बबूल में रह रहे विधायक टी. राजा सिंह हैदराबाद से एकमात्र भाजपा दावेदार हैं, उन्होंने 2018 विधानसभा चुनाव में जीत हासिल की थी और इस बार भी उन्होंने अपनी यह उपलब्धि दोगुनी कर दी है। उन्होंने लगातार तीसरी बार अपनी गोशामहल सीट पर कायम रखी। बीजेपी के मुखिया और पूर्व राज्य प्रमुख बी.संजय कुमार और बी.आर.के.रेगंला गंगाला कमलाकर रेड्डी 3,163 से हार गए। निज़ामाबाद के न्यूनतम डी.अरविंद अपने बी प्रतिद्वंद्वी प्रतिद्वंद्वी के.संजय 10 हजार से अधिक की बढ़त के साथ हार गए। वहीं सोम बाबूराव भी बी प्रतियोगी अनिल यादव से हार गए।

कर्नाटक की हार से बदले में तेलंगना में गुणांक

बीजेपी ने तेलंगाना की सत्ता में एक बार पिछड़ा वर्ग के नेताओं को मुख्यमंत्री बनाने का वादा किया था, जिससे लगता है कि कांग्रेस को रास नहीं आया। पहले बीजेपी को बी रेटिंग्स के प्रतिद्वंद्वी के रूप में देखा जा रहा था, लेकिन इस साल मई में प्रमुखता से चुनाव में बीजेपी की हार और कांग्रेस के मजबूत होने के बाद यह धारणा बदल गई।

ये भी पढ़ें-

बीजेपी की इस जिजीविषा ने चुनाव प्रचार नहीं किया, फिर भी लगातार 9वीं बार जीत हासिल की

राजस्थान चुनाव में बीजेपी ने उतारे थे 7 अल्पसंख्यक, लेकिन कितनी जीत?



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss