33.1 C
New Delhi
Thursday, May 23, 2024

Subscribe

Latest Posts

चैटजीपीटी को फेल कर देगा देसी एआई टूल हनुमान, जानें क्यों हैं खास – इंडिया टीवी हिंदी


छवि स्रोत: फ़ाइल
भारतजीपीटी हनुमान

चैटजीपीटी टक्कर देने के लिए देसी एआई टूल हनुमान जी को पेश किया गया है। यह आर्टिफिशियल सोसाइटी टूल सीता महालक्ष्मी स्कॉच (एसएमएल) और आईआईटी बॉम्बे के भारतजीपीटी इकोसिस्टम पर काम करना चाहता है। इस देसी एआई टूल की खास बात यह है कि यह 22 भारतीय सागर को सपोर्ट करता है। आईआईटी बॉम्बे और मुकेश अंबानी की रिलायंस जियो बैक यह एआई प्लेटफॉर्म अगले महीने लॉन्च हो सकती है।

भारतजीपीटी इकोसिस्टम रिसर्च के अलावा अन्य आईआईटी बॉम्बे के बारे में बताएं। इस नेक्स्ट जेनरेशन टेक्नोलॉजी डिपार्टमेंट ऑफ साइंसेज एंड टेक्नोलॉजी, एसएमएल और जियो के साथ मिलकर काम कर रहे हैं। आइये जानते हैं हनुमान जी के बारे में…

हनुमान क्या हैं?

यह भारतीय लार्ज लैंग्वेज मॉडल है, जिसमें 22 भारतीय सागर में प्रशिक्षण दिया जाता है। इसे आईआईटी बॉम्बे और सीता महाशास्त्री विद्यार्थी (एसएमएल) ने पेश किया है। यह भारतजीपीटी इकोसिस्टम पर काम करता है। इसके फाउंडेशन लैंग्वेज मॉडल में अलग-अलग आकार के 40 स्टोअयोज़ तक तैयार किए गए हैं। इसकी पहली चार सीरीज 1.5 लोकप्रिय, 7 लोकप्रिय, 13 लोकप्रिय और 40 लोकप्रिय फिल्में अगले महीने रिलीज होंगी और ये ओपन होंगी।

हनूमान शास्त्रा अंग्रेजी, तमिल, तेलुगू, मलयालम, मराठी सहित 11 भारतीय सागरों को समर्थन देता है। आने वाले दिनों में यह 22 भारतीय सागरों को समर्थन देगा। हनुमान के पास मल्टीमॉडल एआई क्षमता है, जो टेक्स्ट-टू-टेक्स्ट, टेक्स्ट-टू-स्पीच, टेक्स्ट-टू-वीडियो में कंटेंट को कन्वर्ट कर सकती है।

भतारजीपीटी क्या है?

इंडियाजेपी इकोसिस्टम एक रिसर्च कंसोर्टियम है, जो अन्य आईआईटी बॉम्बे सहित अग्रणी आईआईटी कर रही है। इस इकोसिस्टम को भारत सरकार के डिपार्टमेंट ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी, एसएमएल और रिलांस जियो बैक कर रहे हैं। यह कई मायनों में ओपनएआई के चैटजीपीटी और सोरा एआई टूल को टक्कर देगा। आने वाले दिनों में इस मशीन टूल का इस्तेमाल ज़ियामी, मोबाइल ऐप, आदि में किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें- आपने क्या देखा दुनिया का पहला AI बच्चा? इंसानों की तरह व्यवहार करता है



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss