21.8 C
New Delhi
Tuesday, February 27, 2024

Subscribe

Latest Posts

रविवार को बनेगा इतिहास, सामने आएगा IAF का नया ध्वज, वायुसेना प्रमुख करेंगे अनावरण


Image Source : PTI FILE
आसमान से बातें करते भारतीय वायुसेना के विमान।

नई दिल्ली: भारतीय वायुसेना अपने मूल्यों को बेहतर ढंग से प्रतिबिंबित करने के लिए रविवार को प्रयागराज में एयरफोर्स डे परेड में अपने नए ध्वज का अनावरण करेगी। बता दें कि एक साल से कुछ अर्सा पहले नौसेना ने अपने औपनिवेशिक अतीत को छोड़कर एक साल पहले अपने ध्वज में बदलाव किया था। अब भारतीय वायुसेना ने भी बीते हुए दिनों को पीछे छोड़कर एक नया अंदाज अपनाने का फैसला किया है। वायुसेना ने कहा, ‘8 अक्टूबर भारतीय वायुसेना के इतिहास में एक महत्वपूर्ण दिन के रूप में दर्ज किया जाएगा।’

1932 में हुई थी एयरफोर्स की स्थापना


एयरफोर्स ने कहा कि इस ऐतिहासिक दिन पर वायुसेना प्रमुख नए ध्वज का अनावरण करेंगे। नए ध्वज में सबसे ऊपर दाएं कोने में भारतीय वायुसेना का चिह्न होगा। आधिकारिक तौर पर वायुसेना की स्थापना 8 अक्टूबर 1932 को की गई थी। द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान इसकी पेशेवर दक्षता और उपलब्धियों को देखते हुए मार्च 1945 में इसके सम्मान में ‘रॉयल’ को भी जोड़ा गया और इस तरह यह रॉयल इंडियन एयर फोर्स (RIAF) बन गई थी। साल 1950 में, भारत के गणतंत्र बनने के बाद वायुसेना ने अपने नाम में से ‘रॉयल’ हटा दिया था।

1950 में हुआ था ध्वज में संशोधन

वायुसेना ने साल 1950 में अपने ध्वज में संशोधन भी किया था। बता दें कि रॉयल इंडियन एयर फोर्स के ध्वज में ऊपरी बाएं कैंटन में यूनियन जैक और फ्लाई साइड पर RIAF राउंडेल (लाल, सफेद और नीला) शामिल था। स्वतंत्रता के बाद, निचले दाएं कैंटन में यूनियन जैक को भारतीय तिरंगे और RIAF राउंडल्स को IAFट्राई कलर राउंडेल या तिरंगे के राउंडेल के साथ प्रतिस्थापित करके भारतीय वायु सेना का ध्वज बनाया गया था। बता दें कि अपने बेड़े में विमानों की संख्या के लिहाज से भारतीय वायु सेना दुनिया की चौथी बड़ी वायुसेना है और विषम से विषम परिस्थितियों में भी दुश्मन के दांत खट्टे करने की क्षमता रखती है।

कैसा है वायुसेना का नया ध्वज

PIB द्वारा जारी विज्ञप्ति के मुताबिक, अब ‘एनसाइन’ के ऊपरी दाएं कोने में फ्लाई साइड की ओर वायु सेना क्रेस्ट के शीर्ष पर राष्ट्रीय प्रतीक अशोक चिह्न और उसके नीचे देवनागरी में ‘सत्यमेव जयते’ शब्द है। अशोक चिह्न के नीचे एक हिमालयी गरुड़ है जिसके पंख फैले हुए हैं, जो भारतीय वायुसेना के युद्ध के गुणों को दर्शाता है। हल्के नीले रंग का एक वलय हिमालयी गरुड़ को घेरे हुए है, जिस पर लिखा है ‘भारतीय वायु सेना’। भारतीय वायुसेना का आदर्श वाक्य ‘नभः स्पृशं दीप्तम्’ हिमालयी गरुड़ के नीचे देवनागरी के सुनहरे अक्षरों में अंकित है जिसे भगवद गीता के अध्याय 11 के श्लोक 24 से लिया गया है और इसका अर्थ है ‘वैभव के साथ आकाश को छूना’।

Latest India News



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss