अंजीर की दिखने वाली गूलर (क्लस्टर अंजीर) के बारे में सुना बार और देखेंगे। ता गुण दोष (औषधीय गुण) 1mg के अनुसार सिर्फ गूलर का फल ही नहीं बल्कि इसकी छाल और दूध भी सेहत को कई तरह के फायदे पहुंचाते हैं। आइये जानते हैं इसके फायदों के बारे में।

पेट दर्द में

दर्द होने पर पूरी तरह से समाप्त हो जाने के बाद दर्द हो सकता है। खराब मौसम में भी सुधार होता है।

में डायबिटीज

गूलर के सावन के छोंक को सुखाकर पलिश्ती पाउडर लें। मिक्सी में मिश्री मिलाने के बाद उसमें डालिए। केवल 6-6 ग्राम-शाम ही लें।

ये भी पढ़ें: व्हीट ग्रास से दूज दूज, हाजमा होगा दुरुस्‍त, जान लें एनान्‍य फायदे

चोट लगी ठीक करो

चोटिल को शीघ्र ही ठीक करने के लिए गूलर के दूध का उपयोग कर सकते हैं। इसके️️ इसके️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️
नक़सीरने पर

नकसी पर लागू होने वाले इसके-टीस ग्राम गूलर की खाल को पानी में पलू पर तालु पर जल में। एक बार फिर से आना हुआ है.

दूर दूर करे

किसी भी वजह से अगर आपके शरीर में कमज़ोरी महसूस होती हो तो आप इसके लिए गूलर के फल की मदद ले सकते हैं। ;

ये भी लड़ें: उड़ने वाले मौसम में कंट्रोल️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️°

बेलीडिंग होने पर

शरीर के किसी भी अंग से आने वाले व्यक्ति के असामान्य होने पर दैवीय दैण्ण होने पर भी गूलर की सहायता जा सकती है।” इसके फलों भाती।

रोरिया की स्थिति में दिक्कत

स्त्री रोग को ठीक करने में आपकी मदद करेगा। गूलर के पांच ग्राम मिश्री के साथ पिया जा।

️ मोशन️ मोशन️ मोशन️️️️

ज़ मोशन ।

.