25.1 C
New Delhi
Wednesday, April 17, 2024

Subscribe

Latest Posts

भगोड़े विजय माल्या और नीरव मोदी की अब आने वाली है शामत, भारत की चिंताओं के सापेक्ष ब्रिटेन ने दिया बड़ा बयान


Image Source : FILE
भगोड़े विजय माल्या और नीरव मोदी (फाइल)

भारत से हजारों करोड़ रुपये लेकर विदेश में जा छुपने वाले भगोड़े विजय माल्या और नीरव मोदी की मुश्किलें अब बढ़ सकती हैं। ब्रिटेन में छुपे भगोड़ों के प्रत्यर्पण को लेकर भारत द्वारा यूके के समक्ष चिंता जाहिर किए जाने के बाद ब्रिटेन ने बड़ा ऐलान किया है। ब्रिटेन के सुरक्षा मंत्री टॉम टुगेंडहट ने अरबपति भगोड़े विजय माल्या और नीरव मोदी के प्रत्यर्पण के लिए भारत द्वारा लगातार दबाव बनाये जाने के बीच कहा है कि ऐसी जगह बनने का उनके देश का कोई इरादा नहीं है , जहां न्याय के दायरे में आने से बचने की कोशिश कर रहे लोग छिप सकें।

टुगेंडहट ने किसी विशेष मामले का जिक्र किए बिना कहा कि प्रत्यर्पण संबंधी मामलों में कानूनी प्रक्रिया का पालन किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘‘हम दोनों (ब्रिटेन और भारत) की कानूनी प्रक्रियाएं हैं, जिनका पालन करना आवश्यक है, लेकिन ब्रिटेन सरकार इस बात को लेकर बिल्कुल स्पष्ट है कि ऐसी जगह बनने का हमारा कोई इरादा नहीं है जहां न्याय से बचने की कोशिश कर रहे लोग छिप सकें।’’ टुगेंडहट ने ब्रिटेन में रह रहे माल्या और नीरव मोदी समेत कई आर्थिक अपराधियों के प्रत्यर्पण की भारत की मांग से जुड़े एक सवाल के जवाब में यह टिप्पणी की।

विदेश मंत्री एस जयशंकर के साथ की द्विपक्षीय वार्ता

टुगेंडहट कोलकाता में हुई ‘जी-20 भ्रष्टाचार-विरोधी मंत्रिस्तरीय बैठक’ में भाग लेने के लिए 10-12 अगस्त तक तीन-दिवसीय यात्रा पर भारत में थे। उन्होंने विदेश मंत्री एस जयशंकर और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल से भी दिल्ली में बातचीत की। भगोड़ा हीरा व्यापारी नीरव मोदी भारत में धोखाधड़ी और धनशोधन के मामलों में वांछित है। नीरव (52) अनुमानित दो अरब डॉलर के पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) ऋण घोटाला मामले में भारत में प्रत्यर्पित किए जाने के खिलाफ ब्रिटेन की उच्चतम न्यायालय में अपनी कानूनी लड़ाई पिछले साल हार गया था। माल्या मार्च 2016 में ब्रिटेन भाग गया था। वह भारत में किंगफिशर एयरलाइंस को कई बैंकों द्वारा दिए गए 9,000 करोड़ रुपये के ऋण भुगतान की अदायगी नहीं किये जाने के मामले में वांछित है।

डोभाल के साथ भी हुई वार्ता

ब्रितानी सुरक्षा मंत्री ने डोभाल के साथ हुई उनकी बातचीत के बारे में पूछे जाने पर इसका विवरण साझा करने से इनकार कर दिया, लेकिन उन्होंने कहा कि व्यापक द्विपक्षीय सहयोग दोनों देशों की सुरक्षा और नागरिकों की समृद्धि पर केंद्रित है। उन्होंने कहा, ‘‘हम अपने दोनों देशों की सुरक्षा और हमारे नागरिकों की समृद्धि, देश-विदेश में अपना व्यवसाय करने की उनकी क्षमता के बारे में बात कर रहे हैं।’’ टुगेंडहट ने कहा, ‘‘लेकिन हम हमारे सामने मौजूद चुनौतियों की भी बात कर रहे हैं और हमने अलग-अलग तरीकों से यह स्पष्ट किया है कि चीन की चुनौती हम दोनों देशों के सामने है। हमने आपकी उत्तरी सीमा पर घटनाएं देखी हैं। हमने प्रौद्योगिकी में हुए बदलावों और इससे निपटने के तरीकों पर भी बात की। हमने उन क्षेत्रों पर गौर किया, जिनमें अधिक सहयोग की आवश्यकता है।’’ उन्होंने इस बात को रेखांकित किया कि कैसे भारत और ब्रिटेन कृत्रिम मेधा (एआई) से संबंधित नई प्रौद्योगिकियों में सहयोग कर रहे हैं।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और ब्रिटेन के उनके तत्कालीन समकक्ष बोरिस जॉनसन के बीच मई 2021 में हुई भारत-ब्रिटेन डिजिटल शिखर वार्ता में दोनों देशों के संबंधों को ‘समग्र रणनीतिक साझेदारी’ के मुकाम पर पहुंचाया गया था। शिखर सम्मेलन में दोनों पक्षों ने व्यापार और अर्थव्यवस्था, रक्षा, जलवायु परिवर्तन और लोगों के बीच आपसी संबंध के प्रमुख क्षेत्रों में संबंधों को मजबूत करने के लिए 10 साल का एक ‘रोडमैप’ अपनाया था।  (भाषा)

यह भी पढ़ें

गलवान घाटी में झड़प के बाद पूर्वी लद्दाख में वायुसेना ने तैनात किए 68 हजार से अधिक सैनिक और ये घातक हथियार , चीन दंग

ताइवान के उपराष्ट्रपति की अमेरिका यात्रा से भड़का चीन, सबक सिखाने के लिए ड्रैगन ने खाई ये बड़ी कसम

Latest World News



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss