29.1 C
New Delhi
Friday, June 21, 2024

Subscribe

Latest Posts

ChatGPT से महाशक्ति अमेरिका को भी लगने का डर! राष्ट्रीय गैर को लेकर सांसद ने कुछ बड़ी बातें कही, शिक्षकों को भी परेशान किया


फोटो: फाइल फोटो कुछ ही समय में चैटजीपीटी के उपयोगकर्ता करोड़ों की संख्या में पहुंच गए हैं।

चैटजीपीटी के नुकसान: पिछले कुछ समय से ChatGPT की जोरदार चर्चा हो रही है। आपने भी इसका नाम सुना होगा। इंटरनेट की दुनिया में चैट जीएचटी जमकर छाया हुआ है। इसकी पॉपुलर्टी का अंदाज ऐसी ही बात से लगाया जा सकता है कि जानकार का कहना है कि चैटजीपीटी आने वाले समय में गूगल को भी छोड़ देंगे। चैटजीपीटी गूगल की तरह ही काम करता है। आर्टिफ़िशियल इंटेलिजेंस पर आधारित चैट जीपीटी उपयोगकर्ताओं के सवालों का जवाब देता है। दुनिया के कई देशों में यह चर्चा के केंद्र में है। ग्लोबल पावर ने कहा जाने वाले अमेरिका में भी इसे लेकर बहुत कुछ हो रही है। चैटजीपीटी की इंटेलीजेंस (ChatGPT’s Intelligence) अमेरिकियों ने खूब ध्यान अपनी तरफ खींचा है। हालांकि अब अमेरिकियों में लेकर चिंता भी देखने को मिल रही है। अमेरिकी नेताओं का कहना है कि इससे राष्ट्रीय सीमाएं भी प्रभावित हो सकती हैं।

बता दें कि माना जा रहा है कि चैटजीपीटी मौजूदा समय में कंज्यूमर ऐप के इतिहास में सबसे तेजी से बढ़ने और पॉपुलर होने वाला एआई मुख्य रूप से नष्ट हो जाता है। यह सामान्य रूप से विकसित हुआ है। फिल्हाल अभी ये सार्वजनिक के लिए पेड़ और मुक्त संस्करण में उपलब्ध है। अभी तक इसके फ़ायदे के बारे में लोग बात कर रहे थे लेकिन अब लोगों का ध्यान इससे होने वाले नुक़सान पर भी जाने लगा है। लोगों को लगता है कि यह काम वहीं होगा जहां लोग गलत जानकारी देने के लिए भी इसका इस्तेमाल कर सकते हैं।

गलत सूचनाओं का बढ़ना

बता दें कि अमेरिका के हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव साइंस कमेटी के एक सांसद ट्रेड लिव ने न्यूयॉर्क टाइम्स से बात करते हुए कहा कि वह चैटजीपीटी के बारे में खुश हैं यह दुनिया को आगे बढ़ाने में अहम भूमिका निभाएगा। कई क्षेत्रों में इससे प्रगति होगी लेकिन एआई को यह सबसे पहले सुनिश्चित करता है कि सभी अमेरिकी अधिकारों और प्राइवेसी का किसी भी प्रकार से उल्लंघन नहीं होगा। एक सीमीत दायरे में भरकर इसे काम करना चाहिए। चैटजीपीटी से यह डर बन गया है कि ऐसे माध्यमों का उपयोग गलत जानकारी फैलाने के लिए भी किया जा सकता है।

ChatGPT ने शिक्षकों का आवर्धन तनाव

वहीं दूसरी तरफ इसके एक और नुक़सान की बात करें तो स्कूल के शिक्षक भी इसे लेकर काफ़ी संवेदनशील नज़र आ रहे हैं। शिक्षकों का मानना ​​है कि छात्र चैटजीपीटी का उपयोग अपना स्टॉप पूरा करने में कर सकते हैं। अमेरिकी सांसद ने कहा कि चैट जीपीटी का इस्तेमाल पूरी तरह से सुरक्षित और नैतिक होना चाहिए। बता दें कि चैट जीपीटी को न्यूयॉर्क के स्कूलों में प्रतिबंधित कर दिया गया है।

यह भी पढ़ें- अब जिएं नेटफ्लिक्स का सब्सक्रिप्शन न खरीदें, मुफ्त में ऐसे देखें अनलिमिटेड वीडियो

यह भी पढ़ें- ऑनलाइन भुगतान करते समय कभी भी भूलकर न करें ये गलती, बैंक खाते से पल भर में चूक हो जाएगी मेहनत का पैसा

नवीनतम व्यापार समाचार



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss