17.9 C
New Delhi
Tuesday, February 27, 2024

Subscribe

Latest Posts

व्याख्याकार: ट्रान्सप्लांट से संबंधित नियम-कानून क्या हैं; किस अंग की सबसे बड़ी चीज़?


छवि स्रोत: इंडिया टीवी जीएफएक्स
ट्रैक्ट ट्रांसप्लांट ने अब तक हजारों लोगों की जान बचाई है

नई दिल्ली: ऑर्गनाइजेशन ट्रांसप्लांट यानी अंग प्रत्यारोपण मेडिकल फील्ड में एक चमत्कारी प्रक्रिया है। इसके माध्यम से ऐसे हितधारकों का जीवन सचिव बनता है, जिनका कोई अंग खराब हो जाता है या काम करना बंद कर देता है। ऐसे में मरीज के शरीर से बाहर किसी डोनर का अंग खराब हो जाता है और मरीज का जीवन खराब हो जाता है। देश में रेलवे ट्रांसप्लांट के मामले लगातार बढ़ रहे हैं और हजारों लोग इसका लाभ एक बेहतर जीवन जी रहे हैं।

क्या-क्या ट्रांसप्लांट कर सकते हैं?

ट्रांसप्लांट करना एक तरह की सर्जरी होती है, जिसमें टिश्यू और स्ट्रेचर दोनों का ही ट्रांसप्लांट किया जा सकता है। क्रिटिक्स में हार्ट, लंग, हार्ट-लैंग, डाइक्रोज़, क्रोचेज़, पैनक्रियाज, इंटेस्टाइन, थाइमस और यूट्रस शामिल हैं। इसके अलावा कुछ टिश्यू जैसे बोन्स, टेंडोन्स, कॉर्निया, स्किन, हार्ट वॉल्वस और तंत्रिका को भी ट्रांसप्लांट किया जाता है।

सबसे ज्यादा ट्रांसप्लांट इसी अंग में होता है

अमेरिका में सबसे ज्यादा ट्रांसप्लांट किडनी की होती है। इसके बाद सबसे बड़े पैमाने पर सामने आए और हार्ट ट्रांसप्लांट के मामले सामने आए। इसके अलावा आम तौर पर ट्रांसप्लांट किए जाने के मामले कॉर्निया और मस्कुलोस्केलेटल प्लेक्ट (हड्डी और टेंडन) से संबंधित होते हैं। मशीनरी संख्या ट्रान्सप्लांट से दस गुना से भी अधिक है। दार्शनिक के अनुसार, वर्ष 2013 में क्रैजिट ट्रांसप्लांट की संख्या 4990 थी, जो वर्ष 2022 में 15,561 हो गई थी।

क्रेजी डोनर कौन हो सकता है?

ऑर्केस्ट्रा डोनर जीवित, ब्रेन डेड, या सर्कुल चित्रित मृत वाले हो सकते हैं। उन डोनों से टिश्यू के लिए जा सकते हैं, जो सर्कुल निर्देशित डेथल का सामना कर चुके हैं। क्रिया को समय रहते मृत शरीर से खोजा जाता है, जबकि कुछ ऊतक को ठीक कर दिया जाता है, अधिकांश ऊतक को 5 वर्ष तक के लिए संग्रहित किया जा सकता है। यानी इन्हें बैंक से खरीदा जा सकता है।

आयु सीमा क्या है?

स्वास्थ्य केंद्रीय मंत्रालय ने फरवरी 2023 में ट्रैक्ट ट्रांसप्लांट की स्थापना के लिए आयु सीमा हटा दी थी। 65 वर्ष से कम आयु और उससे अधिक आयु के मरीज़ भी रेस्तरां ट्रांसप्लांट के लिए नामांकन करा सकते हैं। इसके अलावा सरकार ने नाइजीरियाई प्रमाण पत्र से संबंधित जरूरी सामानों को निकालने के लिए एलेक्ट्रेटिक साजो-सामान को राज्यों से निकाल दिया था, जिससे कि जरूरी सामानों को अन्य राज्यों में भी ट्रांसप्लांट करने के लिए सरकार ने अपना जरूरी सामान निकाला था।

ट्रैक्ट ट्रांसप्लांट से जुड़े नियम क्या हैं?

केंद्र सरकार ने नेशनल ह्यूमन ऑर्गन्स एंड टिश्यू रिमूवल एंड स्टोरेज नेटवर्क की स्थापना की है, जिसे NOTTO नाम दिया गया है। इसका फुल फॉर्म नेशनल ऑर्केस्ट्रा और टिश्यू ट्रांसप्लांट संगठन है। NOTTO में 5 क्षेत्रीय नेटवर्क ROTTO (क्षेत्रीय अंग और ऊतक प्रत्यारोपण संगठन) होते हैं और देश के हर क्षेत्र में SOTTO (राज्य अंग और ऊतक प्रत्यारोपण संगठन) होते हैं।

ट्रांसप्लांट करने वाले अस्पतालों के लिए इस संगठन से जुड़ना जरूरी

ट्रांसप्लांटेशन से जुड़ी किसी भी गतिविधि से संबंधित देश के अस्पतालों से नेशनल नेटवर्किंग के एक पार्ट के रूप में ROTTO/SOTTO के माध्यम से NOTTO के साथ जुड़ना होता है। फिर फर्म ये हॉस्पिटल रिट्रीवल से संबंधित हो या फिर ट्रांसप्लांट से संबंधित हो।

अनिवार्य रूप से

बैक्टीरिया ट्रांसप्लांटेशन के लिए नामांकन अनिवार्य है। इसमें क्रैविज़ ट्रांसप्लांट रजिस्ट्री, क्रैविज़ डोनेशन रजिस्ट्री, टिश्यू रजिस्ट्री और रेज़िस्टेंस डोनर प्लेज रजिस्ट्री होती है। जो अलग-अलग इलेक्ट्रानिक का पालन करना होता है।

क़ानून क्या है?

मानव अंग प्रत्यारोपण को मानव अंग प्रत्यारोपण अधिनियम, 1994 के तहत कवर किया गया है, जिसमें जीवित और मृत मस्तिष्क प्रत्यारोपण को अंग दान द्वारा बताया गया है। वर्ष 2011 में मानव ऊतक के दान के माध्यम से संशोधन के अधिनियम में शामिल किया गया था और इस प्रकार के मानव ऊतक प्रत्यारोपण अधिनियम को मानव ऊतक के प्रत्यारोपण और ऊतक अधिनियम 2011 में शामिल किया गया है।

कौन से लोग खरीद और बेच सकते हैं?

लोग ट्रेन को खरीद या बेच नहीं सकते। मानव अंग विकलांगता अधिनियम (टीएचओए) के अनुसार, किसी भी व्यवसाय या व्यवसाय को किसी भी तरह से दंडनीय है। इसके लिए फाइनेंसियल और आर्किटेक्चरल पेनल्टी दी जा सकती है। ऐसा सिर्फ भारत में ही नहीं है बल्कि दुनिया के किसी भी हिस्से में किसी भी अंग की बिक्री की मात्रा नहीं है।

क्या गरीब और आर्थिक रूप से कमजोर लोग भी करा सकते हैं ट्रैक्ट ट्रांसप्लांट?

भारत सरकार ने नेशनल एंग्ज़ और ट्रांसप्लांट डिलिवरी कार्यक्रम (एनओटीपी) की शुरुआत की है। इसके तहत गरीबी रेखा से नीचे रहने वाले इलाके को ट्रांसप्लांट के खर्च के अलावा एक साल तक की दवाओं का खर्च पूरा करने के लिए आर्थिक मदद की जाती है। इसके अलावा सभी सार्वजनिक अस्पतालों में किडनी ट्रांसप्लांट पर भारत सरकार की नीति के अनुसार छूट दी गई है।

क्रैजिट ट्रांसप्लांट से जुड़ी प्रमुख जानकारी कहाँ स्थित है?

अगर आप क्रैन्सट्रांसप्लांट से जुड़ी अधिकांश जानकारी पाना चाहते हैं तो आप नेशनल क्रैट्रिक्स और टिश्यू ट्रांसप्लांट ऑर्गनाइजेशन यानी नोट्टो की आधिकारिक वेबसाइट पर कर सकते हैं। NOTTO को स्वास्थ्य सेवा महानिदेशालय, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय, भारत सरकार के अधीन स्थापित किया गया है। NOTTO की डायरेक्ट वेबसाइट पर नामांकन के लिए यहां क्लिक करें करें।



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss