35.1 C
New Delhi
Sunday, April 21, 2024

Subscribe

Latest Posts

एर्दोआन की सियासी ज़मीन भी फटेगी तुर्की का भूकंप? जानिए क्यों उठ रहा है यह सवाल


छवि स्रोत: फ़ाइल
तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप पक्की एर्दोआन।

अंकारा: तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप पक्की एर्दोआन 20 साल पहले एक विनाशकारी भूकंप से पैदा हुए हालात की वजह से ही सत्ता में आए थे। दरअसल, जनता भूकंप से संपर्क में सरकार के तौर-तरीके से बेहद नाराज थी और फ्रैंक एर्दोआन की पार्टी को अपना समर्थन दिया था। अब जब देश में चुनाव के सामने 3 महीने हो गए हैं, ऐसे में एर्दोआन का राजनीतिक भविष्य अब इस जबरदस्त भूकंप से पैदा हुए हालात से उनकी सरकार का समझौता, और जनता पर इसके प्रभाव से तय होने की संभावना है।

20 साल पहले का दौर क्यों याद आ रहा है?

जानकारों का मानना ​​है कि एर्दोआन के लिए यह बड़ी चुनौती बन रही है जो अपना निरंकुश लेकिन अपने काम को सही तरीके से करने वाले एक शख्स की साख बना रखा है जो किसी भी काम को अंजाम तक पहुंचाता है। इस बार भूकंप के बाद की स्थिति भी 20 सा पहली चुनाव जैसी है, क्योंकि तब तुर्की वित्तीय संकट में फंस गया था, जिसकी वजह से उसकी उद्योग चरमरा रही थी, और आज भी उसकी उद्योग पर छूती चमक का साया है।

एर्दोआन के लिए परेशानी बनी रहती है?
गोपनीयता भी एर्दोआन के लिए एक बड़ी समस्या बन सकती है क्योंकि इस समस्या से निपटने के तौर-तरीकों की काफी आलोचना हुई है। प्रविष्टि के कारण लाखों गरीब एवं मध्यमवर्गीय वर्ग के लोग अपनी रोज़गार की सुंदरता को पूरा करने की जद्दोजहद कर रहे हैं। तुर्की का भूकंप कुछ सीमा में इन दोनों भाषाओं से आने वाले लोगों की मुश्किलों में है और ऐसा ही कर दिया है, ऐसे में आने वाला चुनाव एर्दोआन की राजनीतिक भविष्य के लिए बेहद मुश्किल हो सकता है।

ये भी पढ़ें:

सांघवी पर बुरी तरह भड़की कांग्रेस

‘…तो हम निजाम के निशानियों को मिटा देंगे’, ब्रॉडबैंड ब्रॉडकास्टर के बड़े बयान

2003 में तुर्की के राष्ट्रपति एर्दोआन बने
बता दें कि एर्दोआन मार्च 2003 में तुर्की के प्रधानमंत्री बने थे और अगस्त 2014 तक इस पद पर रहे। इसके बाद अगस्त 2014 में वह देश के राष्ट्रपति बने और धीरे-धीरे एक तानाशाह के रूप में सत्ता पर अपनी पकड़ मजबूत कर ली। हालांकि पिछले कुछ सालों में उनके खिलाफ एक वर्ग में असंतोष की भी काफी खबरें आई हैं।

नवीनतम विश्व समाचार

इंडिया टीवी पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी समाचार देश-विदेश की ताज़ा ख़बरें, लाइव न्यूज़फॉर्म और स्पीज़ल स्टोरी पढ़ें और आप अप-टू-डेट रखें। Asia News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सत्र



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss