31.1 C
New Delhi
Friday, July 12, 2024

Subscribe

Latest Posts

दिल्ली की हवा में तेजी से बढ़ रहा ‘जहर’, लागू करना पड़ा GRAP का दूसरा चरण


छवि स्रोत: पीटीआई फ़ाइल
दिल्ली में एक बार फिर गंभीर वायु प्रदूषण की स्थिति बनी हुई है।

नई दिल्ली: केंद्र सरकार के वायु विज्ञान आयोग ने प्रदूषण में वृद्धि के खतरों के बीच शनिवार को दिल्ली की आपदाओं को शहर में चरणबद्ध प्रतिक्रिया कार्य योजना (जीआरएपी) के दूसरे चरण में लागू करने के निर्देश दिए। ग्रैप के तहत निजी परिवहन को हतोत्साहित करने के लिए प्लांटेशन पर नियंत्रण के लिए मार्च चार्ज में ग्रुप और सीएनजी/इलेक्ट्रिक वाहन एवं मेट्रो सेवाओं को बढ़ावा देने जैसे कदम उठाए गए हैं। बता दें कि पिछले कुछ वर्षों से दिल्ली-एनसीआर के लोगों पर वायु प्रदूषण का बेहद गंभीर खतरा मंडरा रहा है।

‘बहुत खराब’ श्रेणी में जाने वाली है दिल्ली की हवा

दिल्ली-एनसीआर में वायु गुणवत्ता प्रबंधन आयोग (सीक्यूएएम) की एक बैठक में वायु गुणवत्ता प्रबंधन आयोग (सीक्यूएएम) ने कहा कि भारत मौसम विज्ञान विभाग और भारतीय शुष्क मौसम विज्ञान संस्थानों के घाटियों से प्रतिकूल मौसम और जलवायु परिवर्तन के बारे में पता चलता है। के कारण 23 और 24 अक्टूबर को दिल्ली की समग्र एयरोस्पेस श्रेणी ‘बहुत खराब’ श्रेणी में जाने का खतरा है। वायु गुणवत्ता प्रबंधन आयोग (CQAM) GRAP को सक्रिय रूप से लागू करने के लिए जिम्मेदार एक वैधानिक निकाय है। दिल्ली का 24 घंटे का औसत एयरोस्पेस स्कैनर (AQI) शनिवार 248 को आया।

दिल्ली समाचार, दिल्ली वायु प्रदूषण, दिल्ली AQI सूचकांक, दिल्ली GRAP

छवि स्रोत: पीटीआई फ़ाइल

दिल्ली का 24 घंटे का औसत AQI शनिवार को 248 रहा।

ग्रैप के चरण कैसे लागू करें
स्थायी स्थिति को देखते हुए आयोग ने पूरे एनसीआर में ग्रैप के पहले चरण के तहत पहले से मजबूत कदमों के अलावा दूसरे चरण के उपाय लागू करने का निर्णय लिया। आयोग ने एक आदेश में कहा, ‘एनसीआर में सभी संबंधित जीन ग्रैप के पहले चरण के उपायों के अलावा अन्य चरणों के उपायों को तत्काल प्रभाव से लागू किया जाए।’ दिल्ली-एनसीआर में वायु प्रौद्योगिकी के आधार पर ग्रैप को 4 चरणों में शुरू किया गया है। पहला चरण एयरोस्पेस आर्किटेक्चर (AQI) 201-300 यानी ‘खराब’ पर लागू होता है। दूसरे चरण में AQI 301-400 (बहुत खराब) होता है, तीसरे चरण में AQI 401-450 (गंभीर) होता है और चौथे चरण में AQI 450 से अधिक (गंभीर से भी ज्यादा) होता है।

GRAP के पहले चरण में क्या होता है?
पहले चरण में 500 स्क्वेयर मीटर के बराबर या उससे अधिक के उन प्लॉट पर निर्माण और टुकड़े टुकड़े पर काम का आदेश दिया जाता है जो गंदगी रोकथाम के उपायों की निगरानी से संबंधित राज्य सरकार के पोर्टल पर पंजीकृत नहीं होते हैं। इसके अलावा पहले चरण में दिल्ली के 300 किमी के भीतरी प्रदूषण फैलाने वाली औद्योगिक इकाइयों और थर्मल पावर प्लांटों के खिलाफ दंडात्मक कार्रवाई की गई है और होटल, रेस्तरां और खुले भोजनालयों के तंदूर में सोसायटी और जलावन लकड़ी का इस्तेमाल पूरी तरह से प्रतिबंधित है। ।। आशियाने वाली जगहों से निर्माण और स्थिरता सुनिश्चित करने के लिए पहले चरण का विवरण यहां दिया गया है।

दूसरे, तीसरे और चौथे चरण में ये चरण बढ़ते हैं
दूसरे चरण के तहत अंडरस्टैंडिंग वाले कदमों में वैयक्तिक समूह का उपयोग करना कम करने के उद्देश्य से पैदल यात्री शुल्क और सीएनजी/इलेक्ट्रिक बस और मेट्रो सेवाओं को बढ़ावा देना शामिल है। तीसरे चरण के अंतर्गत, दिल्ली, गुरुग्राम, ग़रीब, गाजियाबाद और गौतम बुद्ध नगर में पेट्रोल से चलने वाले बीएस-3 इंजन वाले और डीजल से चलने वाले बीएस-4 चार पहिया सिलेंडरों का उपयोग रोकने का प्रस्ताव है। चौथे चरण में सभी प्रकार के निर्माण और उद्यम उद्यमों पर प्रतिबंध लगाना शामिल है। राज्य सरकार ऐसी मान्यता के दौरान नामांकित छात्रों के लिए ऑफ़लाइन और सरकारी और निजी निवेशकों के लिए घर से काम करने के बारे में निर्णय लेने के लिए भी अधिकृत है। (भाषा)

नवीनतम भारत समाचार



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss