27.9 C
New Delhi
Wednesday, April 17, 2024

Subscribe

Latest Posts

फिल्मी स्टाइल में दुबई के शख्स को 10 लाख का चूना लगा जामताड़ा से गैंग का भंडाफोड़


छवि स्रोत: इंडिया टीवी
जामताड़ा से गया दुबई से आया शख्स को 10 लाख का चूना

नई दिल्ली: दिल्ली पुलिस ने मोबाइल बैंकिंग के नाम पर फर्जीवाड़ा करने वाले एक ऐसे गुट का भंडाफोड़ किया है जो जामताड़ा से संचालित होता था। ये गैंग शातिर है कि लोगों को अपने झांसे में लाने के लिए फेसबुक और अन्य सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर विज्ञापन भी देता था।

जब लोग इस विज्ञापन को देखकर आश्वस्त हो जाते हैं तो वह विज्ञापन के लिंक पर क्लिक करते हैं। जैसे ही कोई दिए गए नंबर पर फोन करता है, तो उनका संबंध सीधे इस गैंग के सदस्यों से हो जाता है। इसके बाद गिरोह के सदस्यों को अपने झांसे में ले लिया और उनके फोन में एनीडेस्क नाम का एक सॉफ्टवेयर डाउनलोड करवाते थे। इसके लोगों से उनकी फोटो शेयर की गई।

डिटेल के बाद जब पीडि़त के पास ओटीपी चला गया तो यह पीडि़त को कॉन्फिडेंस में लेकर उसका ओटीपी नंबर ले रहा था। इसके बाद लोगों के बैंक से लाखों रुपए निकल गए। ये मामला तब खुला जब दुबई से एक शख्स भारत आया। उसके इस गैंग से ऐसे ही संपर्क हुआ और इस गैंग के लोगों ने उस शख्स के बैंक खाते से 10 लाख रुपये निकाले।

दिल्ली पुलिस जब इस गैंग के सदस्यों को पकड़ने के लिए जामताड़ा पहुंची तो पुलिस को इस गैंग के सदस्यों के पास से 21 हजार से ज्यादा प्रिक्स एक्टिविटी सिम मिली। इनमें से 700 से ज्यादा सिमें भूटान, नेपाल, नंबर और दुबई के थे।

दिल्ली पुलिस के मुताबिक, यह गैंग फ्री एक्टिवेटेड सिमों के लिए भी लोगों को धोखा देती थी। पुलिस का कहना है कि जब जामताड़ा या उसके आसपास रहने वाले लोग इस गैंग के उस सदस्य के पास जाते थे, जो मोबाइल सिम का काम करता है तो यह गैंग लोगों को सिम तो दिया था लेकिन जो लोग ज्यादा पढ़े-लिखे नहीं होते थे थे, उनके बायोसाइमैटिक अलाउंस लिए गए थे। इसके बाद उन उलटफेरों के नाम पर सिमटती गतिविधियां की गईं। इस मामले में पुलिस ने सिम डीलर समेत 6 लोगों को गिरफ्तार किया है।

ये भी पढ़ें:

माफिया डॉन मुख्तार अंसारी की भी मुश्किलें मिलीं, पत्नी पर घोषित हुआ 50 हजार रुपए का इनाम

अतीक अहमद के जिस बेटे का हुआ था एनकाउंटर, मोबाइल से मिले उमेश मर्डर केस के सबूत, जानें पूरा मामला



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss