35.1 C
New Delhi
Thursday, May 30, 2024

Subscribe

Latest Posts

'किसी पंजाबी पर जुल्म को नज़रअंदाज नहीं करेंगे', डूबे सीएम भगवंत मान – इंडिया टीवी हिंदी


छवि स्रोत: पीटीआई
आदिवासियों की मौत से भड़के सीएम भगवंत मान।

चंडीगढ़/नई दिल्ली। पंजाब से हजारों किसानों के समूह ने दिल्ली मार्च का शुभारंभ किया है। हालांकि, पंजाब के किसानों से जुड़े कई गांवों पर हरियाणा पुलिस ने सीमा पर रोक लगा दी है। पंजाब-हरियाणा सीमा पर स्थित शंभू और खानौरी सीमा पर किसान किसानों और हरियाणा पुलिस के बीच रविवार को हिंसक दंगों की भी खबरें सामने आई हैं जिनमें प्रदर्शन में पंजाब के पंजाब के लोगों की मौत की खबर भी शामिल है। अब पंजाब के सीएम भगवंत मान ने भी सामने आकर इस घटना पर गुस्सा जाहिर किया है।

ज़ुल्म को नज़रअंदाज़ नहीं करेंगे- भगवंत मान

पंजाब-हरियाणा सीमा पर जैसे ही एक राक्षस की मौत की खबर आई, तो पंजाब के मुख्यमंत्री भगवन्त मान तुरंत सामने आ गए। उन्होंने कहा कि खानौरी सीमा पर 21 साल का शुभांरभ हुआ है। भगवंत मान ने कहा कि वो इस मामले की पूरी जांच कराएंगे और किसी भी पंजाबी फिल्म को नहीं देखेंगे। भगवंत मान ने केंद्र सरकार से अपील की कि वो किसानों से जुल्म करने के लिए आम बातचीत से मुद्दे का हल निकालें।

हरियाणा सरकार किसानों को ना रोकती तो…

भगवंत मान ने कहा है कि मेरा फर्ज है कि मैं केंद्र और किसान किसानों के बीच पुल का काम करता हूं। मैजिफेल सेंटर का काम और प्रपोजल फेलिआ का काम है। उन्होंने कहा कि किसान दिल्ली जाएं और अगर हरियाणा सरकार उन्हें रोकती है तो किसान आगे बढ़ना चाहते हैं। मान ने बताया कि 22 जनवरी 2021 के बाद किसानों के साथ कोई बातचीत नहीं हुई।

पंजाब में लॉ एंड ऑर्डर बिल्कुल ठीक- भगवंत मान

भगवंत मान ने कहा है कि आज हमने एसएसएफ की घुसपैठ और किसानों के लिए सीमा पर लगा दिया है। साथ ही 2 मंत्री और एक विधायक जो आंखों के डॉक्टर हैं, उनकी भी ड्यूटी चली गई है। मान ने कहा कि मैं शुभकरण के परिवार के साथ खड़ा हूं और मौत की जांच करूंगा और कार्रवाई करूंगा। पंजाब के सीएम ने आगे कहा कि पंजाब में कानून और व्यवस्था बिल्कुल ठीक है, मैं सभी से शांति की अपील करता हूं।

शांति बनाये रखना आवश्यक- अर्जुन कुण्ड

किसानों के उग्रवादी प्रदर्शन के बीच केंद्रीय कृषि मंत्री अर्जुन मुंडा ने रविवार को कहा कि केंद्र सभी किसान संगठनों पर चर्चा के लिए तैयारी कर रहा है। कृषि मंत्री मुंडा ने एक्स पर लिखा, “चौथे दौर के बाद सरकार ने चार दौर में चर्चों के चर्चों की मांग, कृषि विविधता, पराली अवशेष, बांड जैसे सभी लक्ष्यों पर चर्चा के लिए तैयारी की है। मैं किसान नेताओं से फिर से चर्चा के लिए तैयार हूं।” आप सभी को आमंत्रित करता हूं। हमारे लिए शांति बनाए रखना महत्वपूर्ण है।”

ये भी पढ़ें- उग्र प्रदर्शन के बाद किसान देवताओं का बड़ा ऐलान, कल और पर्सन नहीं होंगे दिल्ली कूज

किसान आंदोलन: पराली में मिर्च पाउडर, लाठी-गंडासे से पुलिस पर हमला, 12 घायल

नवीनतम भारत समाचार



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss