34.1 C
New Delhi
Tuesday, July 16, 2024

Subscribe

Latest Posts

डबल डेमोक्रेट: तीसरा दिन पुलिस खाली हाथ, बोहरा समुदाय में


1 में से 1





यूके। शहर की पॉश कॉलोनी में दो बुजुर्ग आदिवासियों की हत्या की गुत्थी पुलिस अभी तक सुलझ नहीं पाई है। इस बीच बोहरा समाज ने सोमवार को जिलास्तर पर नामांकन दाखिल किया और कहा, उनका समाज खुद को सुरक्षित महसूस नहीं कर रहा है। समाज के दायरे में सुरक्षा के इंतजाम नहीं हैं।
समाज के लोगों ने मुख्यमंत्री के नाम जिला कबाड़ी अरविंद पोसवाल को बताया है। बोहरा युवाओं के युसूफ अली आरजी, समाजवादी पार्टी के नेता अली असगर सैनवाड़ी, सहयोक्ता क्रांति बैतुल हबीब के साथ बोहरा समाज के लोगों ने अपने क्षेत्र में सुरक्षा व्यवस्था को लेकर चिंता जताते हुए कहा कि जिले के युवाओं को बुलाया जाए कि वह सुरक्षित नहीं हैं। यदि उनकी व्यवस्थाओं में सुरक्षा व्यवस्था की बेहतर भूमिका नहीं निभाई गई तो समाज उग्रवादी आंदोलन की ओर अग्रसर होगा।
बोहरा समाज के शब्बीर के मुस्तफा का कहना है कि उनके समाज के दो बुजुर्ग बुजुर्गों की नृशंस तरीके से हत्या कर दी गई। पुलिस की जांच तीन दिन तक चली, लेकिन पुलिस को कोई सुराग नहीं मिल सका। उन्होंने कहा, यह पहला मामला नहीं है। पिछले वर्ष से बोहरा समाज के क्षेत्र, बोहर बस्ती, कालाओल कॉलोनी, डायमंड कॉलोनी, फतहपुरा क्षेत्र में चोरी और लूट की घटनाएं बढ़ी हैं। शिकायत के बावजूद ज्यादातर मामलों में पुलिस के हाथ ही खाली थे। इसके निर्माता होंंसले के उद्योग होने लगे हैं।
शैतान ने कहा कि शुक्रवार को पॉश एरिया नवरत्न कॉम्प्लेक्स की डायमंड कॉलोनी में 80 साल के बुजुर्ग हुसैना और उनकी 75 साल की छोटी बहन सारा के सिर पर हमला कर हत्या कर दी गई थी। इसका पता तब चला, जब केयरटेकर तीन दिन की छुट्टियों के बाद घर लौटा था। उन्हें कोठी की पहली मंजिल पर पहुंचना पसंद है तो अंदर का मंज़र देखकर उनका रोंगटे हो गया।
उनकी मालकिन हुसैना और उनकी बहन सारा के शव की औधें मुंह फेर लीं। लहुलुहान था और रक्त सुख दोनों चुकाए गए थे। पुलिस की जांच में पता चला कि दोनों पक्षों की हत्या करीब एक घंटे पहले यानी शुक्रवार सुबह की गई थी।
हमारी कौम शांतिप्रिय, हम व्यापारी कौमः
सेंट्रल बोर्ड ऑफ दाउदी बोहरा के जुआरियों के कमांडर मंसूर अली बोहरा और समाज के अन्य लोगों का कहना है कि बोहरा समाज शांति प्रिय समुदाय है और ज्यादातर व्यापारी लोग हैं। हमें उग्रता पसंद नहीं है लेकिन समाज के मोहल्लों में बढ़ते विकास से समाज के मोहल्लों में खतरा पैदा हो गया है।
समाज के प्रवक्ता अली कौसर कुराबद वाले का कहना है कि समाज के ज्यादातर पुरुष बाहरी देशों में कारोबार करते हैं। उनका परिवार जिसमें महिलाएं और बच्चे भी शामिल हैं, अकेले रहते हैं। यदि वे सुरक्षित नहीं रहेंगे तो समाज आगे कैसे बढ़ेगा?
परीक्षार्थी में मृत्यु की पुष्टि, सिर में गंभीर चोट, मोटापा
इधर, पुलिस का कहना है कि वह जांच में जब्त है। तलाकशुदा रिपोर्ट से पता चला है कि दोनों बहनों की मौत के बाद सिर में गंभीर चोट लग गई। अभी तक एसआईटी से यह भी पता नहीं चला कि घर में कौन, किस तरह से गया था। पुलिस का कहना है कि इस वेबसाइट में किसी अज्ञात का हाथ लग सकता है।
जांच से पता चला कि जिस व्यक्ति ने घर में प्रवेश किया था, उसने जबरदस्ती काम लिया। उसे पता चला कि उस समय घर में दोनों महिलाएँ हैं, जबकि नौकर तीन दिन से छुट्टी पर है। यह भी संभव है कि वे सांता का पता हो और घर में ऐसी जगह से प्रवेश किया हो, जहां से वह सांता के आवास में न दिखे हों।

ये भी पढ़ें – अपने राज्य/शहर की खबरों को पढ़ने से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करें


वेब शीर्षक-दोहरा हत्याकांड: तीसरे दिन भी पुलिस के हाथ खाली, बोहरा समाज में आक्रोश



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss