35.1 C
New Delhi
Friday, June 21, 2024

Subscribe

Latest Posts

क्या पीएम खुद को पावरफुल समझते हैं? राहुल बोले- अडानी पर गलत नहीं बोला, गूगल कर लो


छवि स्रोत: पीटीआई
राहुल गांधी

नई दिल्ली: कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने जब से उद्योगपति गौतम अडानी को लेकर गत 16 दिसंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला बोला, तभी से इस मामले पर जोरदार विवाद देखा है। गत सोमवार ने उन्हें नोटिस जारी किया है। 15 फरवरी तक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी टिप्पणी के संबंध में विशेषाधिकार हनन नोटिस का जवाब देने के लिए कहा है।

‘शांति और तहजीब से मोदी-अडानी के रिश्ते पर अपनी बात रखी थी’

अब उस नोटिस पर राहुल गांधी की प्रतिक्रिया सामने आई है। राहुल ने कहा कि उन्होंने संसद में कुछ भी गलत नहीं बोला है, लोग चाहे तो गूगल भी कर सकते हैं। उन्होंने कहा, ”कुछ दिन पहले मैंने पीएम मोदी और अडानी के रिश्तों पर एक स्पीच दी थी। काफी शांति और तहजीब से मैंने अपनी बात रखी थी, कोई खराब भाषा का इस्तेमाल नहीं किया था। मेरी तरफ से सिर्फ कुछ तथ्य सामने रखे गए थे। मैंने बताया था कि कैसे अडानी पीएम के साथ विदेश दौरे पर जाते थे और फिर उन्हें बड़े दायित्व मिल जाते थे। किस तरह से 30 प्रतिशत एयरपोर्ट ट्रैफिक अडानी द्वारा नियंत्रित किया जा रहा है।”

‘प्रधानमंत्री ने किया मेरा अपमान’
राहुल गांधी आज केरल में अपने संबद्धता वायनाड में हैं। राहुल ने प्रधानमंत्री मोदी पर ‘अनदेखा’ करने का भी आरोप लगाया। उन्होंने कहा, प्रधानमंत्री कहते हैं कि मेरे नाम में गांधी क्यों हैं, नेहरू क्यों नहीं। प्रधानमंत्री मोदी खुद को बहुत पावरफुल समझते हैं लेकिन एक दिन उनका सच सामने आना ही आता है।

पीएम पर क्रोनी कैपिटलिज्म का आरोप लगाया गया था
बता दें कि इससे पहले राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री के अरबपति पर आरोप लगाया था गौतम अडानी के साथ संबंध हैं। इस मामले को लेकर संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी और भाजपा सांसद निशिकांत दुबे द्वारा कांग्रेस सांसद को विशेषाधिकार हनन नोटिस भेजा गया था। राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा में भाग लेने के दौरान राहुल ने सोलहवीं में अपने भाषण के दौरान प्रधानमंत्री पर कई आरोप लगाए। इस दौरान कांग्रेस सांसद ने 2014 में बीजेपी के नेतृत्व वाले एनडीए के सत्ता में आने के बाद बिजनेस की संपत्ति में अचानक बदलाव की ओर इशारा करते हुए अडानी के साथ पीएम मोदी के संबंध पर सवाल उठाया था। राहुल ने प्रधानमंत्री पर ‘क्रोनी कैपिटलिज्म’ का आरोप लगाया था।

यह भी पढ़ें-

10 फरवरी को नोटिस जारी किया गया
सीपीएसई सूत्रों के अनुसार, नोटिस में 7 फरवरी को राष्ट्रपति के अभिभाषण पर चर्चा के दौरान ‘भ्रमपूर्ण, अपमानजनक, असंसदीय और आपत्तिजनक बयान’ देने के कारण कांग्रेस नेता राहुल गांधी से जवाब मांगा है। 10 फरवरी को एक पत्र में शिकायत ने राहुल गांधी से 15 फरवरी तक नोटिस पर अपना जवाब देने को कहा है। बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे ने 8 फरवरी को स्पीकर ओम बिरला को पत्र लिखकर राहुल गांधी की विशेषाधिकार हनन का नोटिस दिया था। नोटिस में कांग्रेस नेता पर प्रधानमंत्री मोदी के खिलाफ बिना किसी ‘दस्तावेजी सबूत’ के आरोप लगाए गए और ‘सदन को दर्ज करने’ का आरोप लगाया गया।

नवीनतम भारत समाचार



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss