32.1 C
New Delhi
Wednesday, April 17, 2024

Subscribe

Latest Posts

मणिकर्ण सीएम से रूठने का दिल्ली में डेरा, बीरेन सिंह की मुश्किलें


छवि स्रोत: पीटीआई (फाइल फोटो)
एन। बीरेन सिंह

नई दिल्ली: कैंडीडेट में एन. बीरेन सिंह को हटाने की मांग लगातार तेज होती जा रही है। बीरेन सिंह से नाराज होकर दिल्ली में डेराकिंग ने राज्य के प्रभार और पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा से मुलाकात करते हैं को हटाने की मांग की। पात्रा को पार्टी ने मणिबंध के प्रभार के साथ-साथ उत्तर पूर्व राज्यों के आयुक्त की भी जिम्मेदारी सौंपी है। बताया जा रहा है कि नाराज लोगों ने संबित पात्रा से होंठों के काम करने के तौर-तरीको की जमकर शिकायत की। वे राज्य की स्थिति को देखते हुए चित्र को हटा दें या फिर अपने मंत्रिमंडल में संपत्ति करने की मांग करें।

संबित पात्रा ने लुक से क्या कहा?

सूत्र की रचना, तो पात्रा ने इन को स्पष्ट शब्दों में यह बताया है कि पार्टी तस्वीर पर उनकी बातों को तवज्जों देते हुए समाधान निकालने का प्रयास किया जाएगा, लेकिन जहां तक ​​तस्वीर बदलने या उनकी सरकार में किसी तरह की पसंद करने की मांग करेंगे है, उसे लेकर वो सारी बातें पार्टी आलाकमान तक पहुंचाएं।

बताएं कि मिंडी में देखें एन। बीरेन सिंह खिलाफ बीजेपी के लिए मोर्चा खोल दिया है। राज्य में दो विधायक किसी भी जिम्मेदारी से नाराज होकर अपनी सरकारी पद से इस्तीफा दे चुके हैं। बताया जा रहा है कि संदीप सरकार के विभिन्न निगमों और निकाय में पद की जिम्मेदारी संभाल रहे हैं और कई और विधायक भी सरकारी पदों से इस्तीफा दे सकते हैं।

13 अप्रैल से हुई घमासान की शुरुआत, क्या है वजह?
मणिकर्ण में पार्टी और सरकार में घमासान की शुरुआत 13 अप्रैल को बीजेपी विधायक ठीकचोम राधेश्याम सिंह द्वारा मणि के अधिकारियों के पद से इस्तीफा देने के साथ ही हो गया था। पद से इस्तीफा देने की बात कही थी। इसके कुछ ही दिन बाद सोमवार 17 अप्रैल को लांगथबल विधानसभा के भाजपा विधायक करम श्याम ने भी शाम पर मणि पर्यटन निगम के अध्यक्ष के तौर पर कोई जिम्मेदारी नहीं देने का आरोप लगाते हुए इस्तीफा दे दिया।

यह भी पढ़ें-

क्यों नाराज हैं बीजेपी विधायक?
हालांकि बताया जा रहा है कि ज्यादातर विधायक राज्यों के कुकी समुदाय से आते हैं, जो सदस्य 2008 तक एकेडोर्डर का निलंबन करने से नाराज हैं। ये नाराज विधायक अपनी संख्या 12 होने का दावा कर रहे हैं, हालांकि बीजेपी बड़े पैमाने पर विरोध की बातों को खारिज कर रही है। बीजेपी के एक नेता ने कहा कि राज्य में बीजेपी की सरकार पूरी तरह से मजबूत और सुरक्षित है। दो-तीन लोगों को निजी कारणों से कुछ बीमारियां होती हैं और उनका समाधान कर दिया जाएगा। बीजेपी अभी इसे एक रूटीन विवाद से ज्यादा तवज्जों देने को तैयार नहीं है।

पिछले साल मार्च में 60 सदस्यीय विधानसभा चुनाव में शानदार प्रदर्शन करते हुए बीजेपी ने 32 सीटों पर जीत हासिल कर पहली बार अपने दम पर पूर्ण बहुमत के साथ बारिश में सरकार बनाई थी। बाद में जदयू के 5 शामिल होने के बाद राज्य में भाजपा की संख्या 37 पर पहुंच गई।

नवीनतम भारत समाचार



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss