32.1 C
New Delhi
Wednesday, April 17, 2024

Subscribe

Latest Posts

देश में आज मनाया जा रहा है संविधान दिवस, जानें क्या है इसका इतिहास


छवि स्रोत: पीटीआई
देश में आज मनाया जा रहा संविधान दिवस।

नई दिल्ली: अस्तित्व में आज संविधान दिवस मनाया जा रहा है। बता दें कि यह संविधान दिवस 26 नवंबर को मनाया जाता है। असल, सन 1949 में 26 नवंबर के दिन ही भारत की संविधान सभा ने भारत के संविधान को एक आदर्श रूप दिया था। इसी दिन को हम हर साल संविधान दिवस के रूप में मनाते हैं। इस दिन हम संवैधानिक राजनेताओं के प्रति नागरिकों के सम्मान की भावना को बढ़ावा देने के लिए इस दिन की मांग कर रहे हैं। वर्ष 2015 में संविधान निर्माता डॉ. भीमराव बाम के 125वीं जयंती वर्ष में संविधान दिवस की शुरुआत हुई। 26 नवंबर 2015 को सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय ने संविधान दिवस के रूप में शपथ के केंद्र के निर्णय को अधिसूचित किया था।

इन देशों के संविधानों की मदद ली

भारत का संविधान बनने में कुल 2 साल 11 महीने और 18 दिन का समय लगा था। इस तरह 26 नवंबर 1949 को हमारा संविधान बनकर तैयार हो गया। हमारे देश का संविधान पूरी दुनिया का सबसे बड़ा लिखित संविधान है। संविधान निर्माण में कई राष्ट्रों को शामिल किया गया, जिससे आम लोगों के जीवन में बेहतरीन सुधार हुआ। इसके लिए अमेरिका, आयरलैंड, कनाडा, जापान, ऑस्ट्रेलिया और युनाइटेड किंगडम जैसे देशों के संविधानों की सहायता ली गई। इन देशों के संविधानों से हमने नागरिकों के कर्तव्य, मूल अधिकार, सरकार की भूमिका, प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति, राज्यपाल और चुनाव की प्रक्रिया जैसे महत्वपूर्ण विषयों का चयन किया।

संविधान ने क्या दिया?

26 नवंबर का दिन हर भारतवासी के लिए गौरव का दिन है। ये वह दिन है जब भारत में ऐसी किताब तैयार हो गई जिसने हर भारतीय को समानता का अधिकार दिया, हर भारतीय को फ्रैंक जीवन का अधिकार दिया, हर भारतीय को अपने फैसले से खुद को लेने का अधिकार दिया। इस संविधान को बनाने के लिए दिन-रात की गंभीर संकटपूर्ण स्थिति बनाई जाए, ताकि किसी भी व्यक्ति को कहीं भी छूट न मिले। इसपर दूसरे तरीके से तर्क-वितर्क किए गए। लगभग तीन साल तक इस पर सभी वैज्ञानिकों द्वारा विचार किया गया। भारत के संविधान को बनाना इतना आसान काम भी नहीं था। क्योंकि भारत विविधताओं का देश है। ऐसे में सभी धर्म, मत, जाति और अलग-अलग विचारधारा के लोगों को एक साथ लाना बहुत मुश्किल काम था।

यह भी पढ़ें-

उत्तरकाशी टनल मामले पर बड़ी खबर, भारतीय सेना की संवैधानिक वैधता के लिए मूर्ति को वापस लाया गया

तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी ने बच्चों की जान में रचाया कार रत्न, वीडियो शेयर कर कही दिल की बात

नवीनतम भारत समाचार



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss