29.1 C
New Delhi
Friday, June 21, 2024

Subscribe

Latest Posts

हिंद-प्रशांत क्षेत्र में भारत और फ्रांस की मौजूदगी से चीन को चिंता


छवि स्रोत: फ़ाइल
पीएम मोदी और फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल पकड़े गए

नई दिल्ली। हिंद-प्रशांत क्षेत्र में भारत और फ्रांस की सुरक्षा और स्थिरता के लिए हुई साझेदारी ने चीन की चिंता को बढ़ाया है। चीन दक्षिण चीन सागर पर पहले से ही अपना आधिपत्य जमाता रहा है। अब वह हिंद-प्रशांत क्षेत्र में भी संबंध बनाने का प्रयास कर रहा है। मगर इन दोनों देशों ने ड्रैगन की मंशा पर पानी फेरना शुरू कर दिया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को कहा कि भारत और फ्रांस मिल कर हिंद प्रशांत क्षेत्र में सुरक्षा व स्थिरता के अलावा वैश्विक खाद्य व स्वास्थ्य सुरक्षा के क्षेत्र में सकारात्मक योगदान दे रहे हैं।

भारत की एयर इंडिया और फ्रांस के एयरबस के बीच विमान लेने से संबंधित समझौते के अवसर पर वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से आयोजित एक कार्यक्रम को संदेश देते हुए मोदी ने यह भी कहा कि आज अंतरराष्ट्रीय क्रम और बहुपक्षीय प्रणाली की स्थिरता और संतुलन सुनिश्चित करने में भारत- फ्रांस भागीदारी प्रत्यक्ष भूमिका निभा रही है। इस कार्यक्रम के दौरान एयर इंडिया ने एयरबस से 250 विमान खरीदने की घोषणा की है। इनमें से 40 बड़े आकार के विमान शामिल होंगे। इन सभी की खरीद के लिए एयरबस के साथ आयत पत्र पर हस्ताक्षर किए गए हैं। इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री मोदी के अलावा फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुअल मैजर भी मौजूद थे।

भारत-फ्रांस के बीच समझौते के पीएम की योग्यता

टाटा ग्रुप ने पिछले साल जनवरी में एयर इंडिया का अधिग्रहण किया था। प्रधानमंत्री ने इस समझौते को ”मील का पत्थर” बताया और कहा कि यह ”महत्वपूर्ण करार” भारत और फ्रांस के व्यापक संबंध के साथ-साथ भारत के नागरिक उड्डयन क्षेत्र की सफलताओं और आकांक्षाओं को भी निर्दिष्ट है। उन्होंने इस दावे की पुष्टि करते हुए कहा कि भारत के आगे बढ़ने वाले विमानन क्षेत्र को अगले 15 वर्षों में 2,000 से अधिक की आवश्यकता होगी। उन्होंने कहा, ”चाहे हिंद-प्रशांत क्षेत्र में सुरक्षा और स्थिरता का विषय हो या वैश्विक खाद्य सुरक्षा और स्वास्थ्य सुरक्षा… भारत और फ्रांस के साथ मिलकर सकारात्मक योगदान दे रहे हैं। मुझे विश्वास है कि इस साल एक्सपोजर संबंध और नई गलतियों को भी पसंद करेंगे।

भारत को 2000 से अधिक विमान होना चाहिए
भिन्न के इंजन की सर्विसिंग के लिए भारत में सबसे बड़ी सुविधा केंद्र की स्थापना का उल्लेख करते हुए मोदी ने कहा कि आज ”अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था और बहुपक्षीय प्रणाली” की स्थिरता और संतुलन सुनिश्चित करने में भारत-फ्रांस भागीदारी प्रत्यक्ष भूमिका निभा रही है। प्रधानमंत्री ने कहा कि आज भारत का नागरिक उड्डयन क्षेत्र देश के विकास का एजेंडा है और इसे मजबूत करना सरकार की राष्ट्रीय अवसंरचना रणनीति का एक महत्वपूर्ण पहलू है। उन्होंने कहा कि पिछले 8 सालों में भारत में हवाई की संख्या 74 से बढ़कर 147 हो गई है। उन्होंने कहा कि क्षेत्रीय संपर्क योजना उड़ान के माध्यम से देश के सुदूर हिस्सों को भी हवाई मार्ग से जोड़ा जा रहा है, जिससे लोगों के आर्थिक एवं सामाजिक विकास को बढ़ावा मिल रहा है। उन्होंने कहा, ”निकट भविष्य में भारत इस क्षेत्र में दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा बाजार बन रहा है। एक निर्धारित के अनुसार, भारत को अगले 15 वर्षों में 2,000 से अधिक की अनिवार्यता होगी।”

यह भी पढ़ें…

भारत के आकाश से अमेरिकी बमवर्षक भिन्न रूप से चीन को ललकारा! एयरो इंडिया शो 2023 का हुंकार

“नौ दिन में मौत सिर्फ आधी कोस चली गई”…और जिंदगी निकल गई मीलों आगे, तुर्की भूकंप की हैरतअंगेज कहानी

नवीनतम विश्व समाचार



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss