31.1 C
New Delhi
Sunday, July 21, 2024

Subscribe

Latest Posts

चीता और चेतक होंगे सेना से बोल, अब दुश्मन के सीने पर गरजेंगे ये फाइटर हेलीकॉप्टर


छवि स्रोत: इंडिया टीवी
एलसीएचसी एप्लीकेशन (फाइल)

नई दिल्ली। भारतीय सेना के बेड़े में अब शेयर नए और फ्री फाइटर हेलीकॉप्टर शामिल होंगे। उनके गर्जना से हमलावरों के कानों पर पर्दा पड़ जाएगा। इंडियन थल सेना के मेजर जनरल मनोज पांडे ने मंगलवार को कहा कि सेना अपने लड़ाकू हवाई विंग के लिए लगभग 95 प्रचंड कॉम्बैट लाइट हेलीकॉप्टर (एलसीएचसी) और 110 आसान उपयोगी हेलीकॉप्टर (एलयूएच) लेने की योजना बना रही है। जनरल पांडे ने ‘एयरो इंडिया’ के बारे में बताया कि सेना के क्षेत्रों में फिर से आने के लिए स्वदेश निर्मित एलसीएच को शामिल करने पर विचार कर रहा है, क्योंकि हेलीकॉप्टर की पहाड़ी क्षेत्रों में बेहतर फोकस है।

चीता और चेतक होंगे सेना से वर्ण

जनरल मनोज पांडेय ने बताया कि सेना चीता और चेतक हेलीकॉप्टर के अपने पुराने बेड़े को बदलने के लिए एलयूएच और एलसीएच को खरीदने पर विचार कर रहा है। उन्होंने कहा कि एलसीएच प्रचंड में एकीकृत होने वाले हथियार जेसे में से एक हेलिना वाली मिसाइल होगी और उनका पहला प्रयास सफल रहा है। बैंगलोर के बाहरी इलाके में येलहंका वायु सेना परिसर में पत्रकारों से बातचीत के दौरान उन्होंने कहा, ”हम विमान पर हेलिना मिसाइल मिसाइल की एकता का पता लगा रहे हैं। सरकार द्वारा संचालित शटर कंपनी हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (HL) द्वारा विकसित, 5.8-टन डबल इंजन वाला हेलीकॉप्टर अलर्ट वाले शहरों में दुश्मन के टैंक, बंकर, ड्रोन और अन्य संपत्ति को नष्ट करने में सक्षम है।

आक्रामक के लिए चकमा
इन नए हेलीकॉप्टरों में डैटैक्ट सिस्टम से बच निकलने की विशेषताएं, कवच की मजबूत सुरक्षा और रात में हमला करने की क्षमता है, और यह दुनिया का सबसे पुराना युद्ध क्षेत्र सियाचिन में भी पूरी तरह से काम करने में सक्षम है। थल सेना प्रमुख ने कहा कि एलसीएच ने अपना नोटिस मामले में बहुत सुधार किया है। रक्षा खरीद परिषद (डीएससी) ने पहले 40 हेलिना लॉन्चर ही और मिसाइल के उद्घोषक को मंजूरी दे दी है। जनरल पांडे ने कहा, ”विमान पर एकता कुछ ऐसा है जो हमें लगता है कि टैंक संबंधी निर्देशित मिसाइलों की क्षमता को सबसे ज्यादा करने के लिए हमारे लिए महत्वपूर्ण है। थल सेना प्रमुख ने कहा कि शुरुआती पांच एलसीएच में से बल को पहले ही तीन मिल गए हैं। एलयूएच पर, जनरल पांडे ने कहा, सेना को हेलीकॉप्टर के छह सीमित श्रृंखला संस्करण मिल रहे हैं। उन्होंने कहा, ”इसके बाद हम 110 एलयूएच पर विचार कर रहे हैं।

ध्वंसक जैमर और वायुरोधी रोधी तकनीकियों से भी सेना हो रही है
सेनाध्यक्ष ने कहा कि सेना शुरुआती छह हेलीकॉप्टर के प्रदर्शन के आधार पर खरीद योजना को आगे बढ़ाएगी।इस श्रेणी में हमारी कुल जरूरत करीब 250 हेलीकॉप्टर है। जनरल पांडे ने कहा कि अगले साल की शुरुआत में सेना को कुल छह अपाचे हेलीकॉप्टर से पहले खेप मिलने की उम्मीद है, जबकि शेष 2023 के अंत तक आपूर्ति की जाने की संभावना है। जनरल पांडे ने कहा कि ड्रोन जैमर सहित ड्रोन-रोधी तकनीकों पर भी ध्यान केंद्रित किया गया है। उन्होंने कहा, “हम ड्रोन का मुकाबला करने के लिए कई तरह के उपकरणों पर ध्यान दे रहे हैं।

यह भी पढ़ें…

अमेरिका के बाद रोमानिया में चीन का जासूसी गुब्बारा दिखाते हुए मिग-21 आंशिक रूप से जापान में भाग लिया

मोदी ने बाइडन से फोन पर बात की, एयर इंडिया और बोइंग समझौते को नया मुकाम मिला

नवीनतम विश्व समाचार



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss