29.1 C
New Delhi
Friday, June 21, 2024

Subscribe

Latest Posts

ब्लॉकचेन-आतंकियों को हथियार बंद करते थे, सीआरपीएफ के सुरक्षा दस्ते समेत 24 को जेल


छवि स्रोत: PEXELS प्रतिनिधि
कोर्ट ने 24 लोगों को 10 साल की जेल की सजा सुनाई है।

विवरण: उत्तर प्रदेश की एक अदालत ने 2010 में सीआरपीएफ के दो हवलदारों और अन्य सुरक्षा कर्मियों को हथियार और गोलाबारी करने के जुर्म में 24 लोगों को 10 साल की सजा सुनाई है। कोर्ट ने सभी के लिए 10-10 हजार रुपए से ऊपर का हर्जाना भी तय किया है। अपर जिला निर्णायक (एडीजीसी) प्रताप सिंह मौर्य ने शनिवार को बताया कि जिला सत्र न्यायालय के विशेष न्यायाधीश विजय कुमार ने गुरुवार को समापन और शुक्रवार को फैसला सुनाया। मौर्य ने बताया कि केस के मुख्य अतिथि यशोदानंद की डायनासोर की पढ़ाई के दौरान ही मृत्यु हो गई थी। वह यूपी पुलिस के सब-इंस्पेक्टर से अलग थे।

यूपी पुलिस और पीएसी में 14 गुनाहगार हैं

अपर डिस्ट्रिक्ट कट्टरपंथियों ने कहा कि जिन अन्य लोगों को सजा सुनाई गई थी, उनमें विनोद पैन और विनेश कुमार (दो सीआरपीएफ में हवलदार), नाथीराम (काउंसिल, जो पुलिस प्रशिक्षण कॉलेज में शामिल थे), कांस्टेबल राम किशन शुक्ला, रामकृपाल, सुशील मिश्रा, चौधरी कुमार सिंह, राजेश रॉयल, अमर सिंह, वंश लाल, एलागोनक कुमार पांडे, अमरेश मिश्रा, दिनेश कुमार, राजेश कुमार, मनीष राय, मुरलीधर शर्मा, विनोद कुमार सिंह, ओम प्रकाश सिंह, राज्य पाल सिंह, लोकनाथ, बंकरी लाल, आकाश, दिलीप राय और शंकर शामिल हैं। उन्होंने बताया कि उनमें से दिलीप राय, आकाश, मुरलीधर शर्मा और शंकर आम नागरिक हैं, 14 व्यक्ति वर्तमान में यूपी पुलिस और पीएसी में सेवारत हैं।

10 अप्रैल 2010 को पहली गर्लफ्रेंड को हुई थी
मौर्य ने कहा कि ये सभी जमानतदार थे और अदालत ने अपना फैसला सुनाने के लिए उन्हें न्यायाधीश में ले लिया था और दोषी ठहराए जाने के बाद उन्हें जेल भेज दिया गया था। घटना के बारे में विस्तार से बताते हुए एडीजीसी ने कहा कि 10 अप्रैल 2010 को एसटीएफ ने जिले के सिविल लायंस थाना क्षेत्र के यंग नगर रेलवे क्रॉसिंग के पास से सीआरपीएफ के 2 हवलदारों को गिरफ्तार किया था और उनके पास से एक इंसास राइफल, कार्गो और नकदी बरामद। मौर्य ने बताया कि उसके बाद दोनों से मिली जानकारी के आधार पर एसटीएफ ने यशोदानंद (रिटायर्ड सब-इंस्पेक्टर) और डीटेक पुलिस ट्रेनिंग कॉलेज में साइंटिस्ट कांस्टेबल नाथीराम को गिरफ्तार किया था।

डायरी के आधार पर अन्य 21 लोग गिरफ्तार हुए थे
मौर्य ने बताया कि 29 अप्रैल 2010 को एसटीएफ के आमोद कुमार ने एक केस दर्ज किया था, जिसमें यशोदानंद, विनोद पासवान और विनेश कुमार शामिल थे। उनके अनुसार यशोदानंद के पास से 1.75 लाख रुपये बरामद हुए और उनके निशानदेही पर नाथीराम को पीटीसी से गिरफ्तार कर बरामद किया गया। नाथीराम के खिलाफ़ मुकदमा दर्ज किया गया। पुरातन काल के अनुसार, नाथीराम के पास से एक डायरी बरामद हुई थी और उस डायरी के आधार पर जांच के दौरान 21 अन्य लोगों को गिरफ्तार किया गया था। इस मामले में कुल 25 लोगों की हत्या हुई थी जिसमें यशोदानंद की सुनवाई के दौरान शेष 24 लोगों की मौत हो गई थी। (भाषा)

नवीनतम भारत समाचार



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss