38.1 C
New Delhi
Sunday, June 23, 2024

Subscribe

Latest Posts

भाजपा की बन गई ‘भौजाई’… हेमंत सोरेन ने भाजपा सरकार पर बोला तीखा हमला


छवि स्रोत: फाइल फोटो
झारखंड के हेमंत सोरेन

झारखंड बेरोजगार को लेकर केंद्र की भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नीत सरकार पर तीखा हमला करते हुए झारखंड के हेमंत सोरेन ने सोमवार को कहा कि भाजपा ने कभी भूल को ‘डायन’ कहा था, लेकिन ऐसा लगता है कि अब यह पार्टी की ‘भौजाई’ बन गई है। चतरा जिले में ‘खटियानी जोहार यात्रा’ के तहत एक जनसभा को संदेश देते हुए सोरेन ने आरोप लगाया कि भाजपा ने 20 साल तक झारखंड पर शासन किया, लेकिन किसी भी तालिका को अपना कार्यकाल पूरा नहीं किया और जब एक अन्य आदिवासी अब राज्य की कमान संभाल रहा है, तो पार्टी उसकी सरकार को छोड़ने की कोशिश कर रही है।

“बीजेपी को पहले ‘डायन’ लगती थी”

सीएम सोरेन ने कहा, ”(संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन – यूपीए के शासन के दौरान) तानाशाही में मामूली बढ़त पर हुक्म चलाने वाली पार्टी अब एलपीजी सिलेंडर की कीमत 1,000 रुपये से अधिक और एक लीटर पेट्रोल की कीमत 100 रुपये से अधिक होने पर चुप है। । उस समय उन्होंने ‘डायन’ के रूप में देखा। अब ऐसा लगता है कि उनका ”भौजाई’ बन गया है।” भागीदार ने आरोप लगाया कि राज्य में अपनी सरकार को छोड़ने की साजिश रच रहा है, क्योंकि वह नहीं चाहता कि झारखंड आगे बढ़ें। सोरेन ने कहा, ”उन्होंने (भाजपा ने) झारखंड पर 20 साल तक शासन किया, लेकिन राज्य देश के सबसे पिछड़े राज्यों में से एक रहा।” उन्होंने गुजरात और महाराष्ट्र पर भी शासन किया, लेकिन वे राज्य में आगे बढ़े, जबकि झारखंड को पीछे छोड़ दिया, क्योंकि किसी भी आदिवासी को अपना कार्यकाल पूरा नहीं किया।”

“किसी भी आदिवासी मुख्यमंत्री का कार्यकाल पूरा नहीं किया”
हेमंत सोरेन ने कहा, ”झारखंड के पहले चार्ट एक खींचे हुए थे, लेकिन उन्हें तीन साल पूरा करने से पहले ही पद से हटा दिया गया था। बाद में एक और आदिवासी को सदस्य बनाया गया, लेकिन उन्हें भी तीन साल से ज्यादा इस पद पर नहीं रखा गया। अब एक और आदिवासी राज्य की कमान संभाल रहे हैं और वे सरकार को छोड़ने की साजिश कर रहे हैं। कम हो गए हैं। उन्होंने कहा, “पहले किसान और पत्ते के सूरज सुरक्षा बल में शामिल होते थे, लेकिन अब, अग्निवीर योजना शुरू की गई है, जो केवल चार साल के लिए रोजगार की संभावनाएं देती है।” उन्होंने कहा, ”किसानों और बांट के। पढ़ने-लिखने वाले बच्चे से जुड़े थे और रेलवे से जुड़े थे, लेकिन अब सितारों की संख्या कम कर दी गई है और रेलवे का निजीकरण किया जा रहा है।”

भाजपा ने हेमंत सोरेन पर पलटवार किया
सोरेन ने कहा कि जब उनकी सरकार ने स्थानीय लोगों को रोजगार देने के लिए ‘खटियान’ या भूमि रिकॉर्ड-आधारित कानून बनाया, तो इसे असंवैधानिक करार दिया गया, जबकि केंद्र भी सरना कोड के मुद्दों पर ‘चुप है’। भाजपा के प्रवक्ता प्रतुल शाहदेव ने इसका जवाब देते हुए दावा किया कि मूल्य वृद्धि और बेरोजगारी पर ”खोखली टिप्पणी” की। उन्होंने कहा, ”जब सेंटर ने पेट्रोल की कीमत 10 रुपये प्रति लीटर कम और राज्यों को अधिक राहत प्रदान करने के लिए वैट कम करने के लिए कहा, तो झारखंड ने ऐसा करने से इनकार कर दिया।” उन्होंने कहा, ”इसी तरह हेमंत सोरेन के नेतृत्व वाली सरकार ने झारखंड में हर साल पांच लाख रुपये पैदा करने का वादा किया था, लेकिन उसने पिछले तीन वर्षों में केवल 357 सरकारी नौकरी दी हैं।”

ये भी पढ़ें-

सीधे फिर दें, जनवरी में बढ़ाएँ 3 माह के सुप्रीम स्तर 6.52% पर पहुंचें, रेपो रेट में एक और लुक दें

अप्रैल तक इतनी बढ़ जाएगी होमोलोन की ईएमआई, बैंक खाते हुए बैंक का सिरदर्द

नवीनतम भारत समाचार



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss