31.1 C
New Delhi
Friday, July 12, 2024

Subscribe

Latest Posts

दलित वोट बैंक साधने की तैयारी में BJP, पीएम मोदी रखेंगे संत रविदास के मंदिर की नींव



समरसता यात्रा

मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव में महज तीन महीने बाकी हैं। ऐसे में आदिवासी वोट बैंक के बाद अब बीजेपी दलित वर्ग पर भी निशाना साध रही है। यही वजह है कि 16 फीसदी वोट बैंक वाले दलित समुदाय के गुरु संत शिरोमणि रविदास जी का भव्य मंदिर बीजेपी एमपी के सागर में बनाने जा रही है। 12 अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंदिर का नींव रखेंगे। उससे पहले संत रविदास के नाम पर निकाली जा रही समरसता यात्रा को प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने हरी झंडी दिखाई।

पांच अंचलों से निकाली गई समरसता यात्रा 

इसे लेकर प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा, “मुझे यह कहते हुए आनंद और प्रसन्नता है कि हमने 8 फरवरी को तय किया था कि सागर के पास संत रविदास जी का 102 करोड़ की लागत से मंदिर और स्मारक बनाया जाएगा।” प्रदेश के पांच अलग-अलग अंचलों से निकल गईं समरसता यात्राएं उसी तर्ज पर निकाली गई, जिस तर्ज पर राम मंदिर निर्माण के लिए अयोध्या में देशभर से चंदा एकत्रित किया गया था। यह यात्राएं 150 से ज्यादा विधानसभा क्षेत्रों के 53 हजार गांव से 312 नदियों का जल लेकर 12 अगस्त को सागर पहुंचेगी, जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंदिर और स्मारक का इसी पानी और मिट्टी के साथ शिलान्यास करेंगे। सरकार की मानें तो प्रदेश के अलग-अलग पांच अंचलों से समरसता यात्रा निकालने की वजह प्रदेश के तमाम हिस्सों में सामाजिक एकता-सद्भाव और समानता के संत रविदास जी के प्रेरक संदेश जनता तक पहुंचाना है। 11 एकड़ क्षेत्र में 110 करोड़ की लागत से बनने जा रहे संत शिरोमणि रविदास जी के मंदिर को भव्य बनाने के लिए सरकार का पूरा प्लान-

  • पूरा मंदिर नागर शैली में बनाया जाना है।
  • 10000 वर्ग फुट में मुख्य मंदिर बनेगा। मंदिर में गर्भ ग्रह, अंतराल मंडप, अर्ध मंडप का निर्माण होगा।
  • 14000 वर्ग फीट में संत रविदास के दर्शन संस्कृति कवित्व का चित्रण करता संग्रहालय बनाया जाएगा।
  • संग्रहालय में चार गैलरी होगी।
  • पहली गैलरी में संत रविदास के महान जीवन का चित्रण किया जाएगा।
  • दूसरी गैलरी संत रविदास के भक्ति मार्ग और निर्गुण पंथ में योगदान पर आधारित होगी।
  • तीसरी गैलरी संत रविदास के दर्शन और विभिन्न मतों पर प्रभाव के साथ रविदास पंत के प्रभाव के बारे में बताया जाएगा।
  • चौथी गैलरी में संत रविदास के काव्य साहित्य एवं समकालीन विवरण जानकारी होगी।
  • लाइब्रेरी एवं संगत हाल में संत रविदास के भक्ति मार्ग एवं दार्शनिक विचारों के संपूर्ण साहित्य का संकलन उपलब्ध होगा।
  • संत रविदास मंदिर के पास जलकुंड का दर्शन रूप में निर्माण किया जाएगा।
  • भक्तों-श्रद्धालुओं के लिए निवास 12 हजार स्क्वॉयर फीट में बनाया जाएगा।
  • यहां आश्रम के लिए सर्व सुविधा युक्त वातनकुलित 15 कक्ष बनाए जाएंगे। 
  • डोरमेट्री 50 लोगों के लिए लिए बनाया जाएगा।

सागर में संत रविदास के मंदिर निर्माण की वजह 

देश और दुनिया में सामाजिक समरसता-एकता और निर्गुण पंथ की अवधारणा के चलते करोड़ों प्रशंसक और भक्त बनाने वाले संत रविदास जी के सागर में मंदिर निर्माण की बड़ी वजह 600 साल पुरानी एक जनश्रुति बताई जाती है। माना जाता है संत रविदास बनारस से चित्तौड़गढ़ की यात्रा के दौरान सागर के पास तब के कुंतालपुर गांव और अभी कर्रापुर कहे जाने वाले गांव के पास एक तालाब पर रुके थे और अनुयायियों को प्रवचन दिया था। 

किवदंतियों के मुताबिक, इसी तालाब पर संत रविदास के रुके होने की खबर जब यहां के राजा चंद्रहास को लगी, तो उन्होंने संत रविदास से महल चलने को कहा, लेकिन वे महल नहीं जाकर ग्रामवासियों के बीच में ही रहे। उनके जाने के बाद राजा ने तालाब को बनवाकर उसका नाम रविदास कुंड किया और उनकी स्मृति में शिलालेख बनवाया, जो आज भी गांव कर्रापुर में मौजूद है।

लोग खुश हैं, पीएम मोदी को दे रहे बधाई

कर्रापुर के निवासी जानते हैं कि भले ही मौसम चुनावी हो, मंदिर, मूर्ति और स्मारक बनाए जा रहे हो, लेकिन गांव के चौराहे पर इकट्ठा भजन गाती जनता खुश है और पीएम मोदी को धन्यवाद दे रहे हैं कि अब तक सरकारों ने संत रविदास जी को याद क्यों नहीं किया। शिरोमणि रविदास जी का जन्म 1376 में उत्तर प्रदेश के बनारस शहर के गांव गोवर्धनपुर में हुआ था। 

दलित समुदाय का वोट बैंक

संत शिरोमणि रविदास जी के मंदिर निर्माण के पीछे जहां धार्मिक आस्थाएं और जातिगत भावनाएं जुड़ी हैं, वहीं दलित समुदाय का वोट बैंक भी एक बड़ी कहानी है। मध्य प्रदेश में दलित समुदाय 230 में से ग्वालियर चंबल बुंदेलखंड समेत विंध्य की तकरीबन 80 सीटों पर प्रभाव डालता है।

  • एमपी में अनुसूचित जाति आबादी 1 करोड़ 10 लाख से ज्यादा
  • अनुसूचित जाति वोटर 60 लाख से ज्यादा
  • प्रदेश की कुल जनसंख्या में 16 फीसदी दलित
  • अनुसूचित जाति के लिए 35 सीटें आरक्षित
  • एमपी में अब 35 में से 21 सीटें बीजेपी,कांग्रेस के पास 14 सीटें

कांग्रेस के आरोप को बीजेपी ने नकारा

यही वजह है कि कांग्रेस संत रविदास जी के मंदिर निर्माण के पीछे बीजेपी की चुनावी राजनीति बताती है। हालांकि, बीजेपी सरकार के नगरीय प्रशासन मंत्री भूपेंद्र ने तमाम आरोपों को सिरे से नकार दिया है। उनका कहना है कि आजादी के बाद से अब तक कांग्रेस के लिए गांधी-नेहरू परिवार भगवान रहा है, यह मोदी जी हैं, जिनके शासन में तमाम महापुरुषों को याद किया जा रहा है।



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss