30.1 C
New Delhi
Thursday, June 20, 2024

Subscribe

Latest Posts

जन्मदिन का विशेष विवरण: मुंबई में साउदीमी अमित शाह राजनीति के चाणक्य कैसे बने?


छवि स्रोत: पीटीआई/फ़ाइल
केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह

नई दिल्ली: केंद्रीय गृह मंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता अमित शाह का आज जन्मदिन है। उन्हें दुनिया की सबसे बड़ी हस्तियों में से एक कहा जाता है। उनकी रणनीति किसी भी राज्य में पार्टी को जिताने में अहम भूमिका निभाती है, जहां मजबूती के लिए वह हमेशा नई-नई विचारधारा पर कायम रहती हैं। वह मोदी के करीबी और विश्वासपात्र हैं। मोदी और शाह की जोड़ी को बीजेपी की हिट जोड़ी कहा जाता है।

प्रारंभिक जीवन कैसा था?

अमित शाह का जन्म 22 अक्टूबर 1964 को मुंबई में हुआ था। साल 2014 में वह उस वक्त काफी चर्चा में आए थे, जब उनके नोकझोंक की वजह से बीजेपी ने लोकसभा में प्रचंड को जीत हासिल की थी। उनके बाद से अमित शाह ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा और भारतीय राजनीति के क्षेत्र में तब से लेकर अब तक वह लगातार मजबूती हासिल करते आ रहे हैं।

राजनीतिक यात्रा का सफर कैसे शुरू हुआ?

अमित शाह का परिवार राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) से गिर गया था। इसी तरह वह भी कॉलेज के समय अखिल भारतीय स्टेट काउंसिल (एबीवीपी) से जुड़ गए थे। बाद में शाह बीजेपी में शामिल हो गये. शाह 1983 में एबीवीपी से जुड़े, 1987 में उन्होंने बीजेपी युवा मोर्चा की कमान संभाली और साल 1997 में वह पहली बार नेता बने।

साल 2002 में उनका वह वक्त काफी हाईलाइट हुआ, जब उन्हें गुजरात का गृह मंत्री बनाया गया। शाह के कुशल गठबंधन को देखते हुए बीजेपी ने साल 2014 में उन्हें पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाया। उनके नेतृत्व में बीजेपी ने प्रचंड को जीत दिलाई। बाद में जब बीजेपी ने दूसरी बार सरकार बनाई तो अमित शाह को देश का गृह मंत्री बनाया गया।

ईसाइयों की दुनिया में शाह को चाणक्य ने कहा है कि जब से उन्होंने रणनीति बनाना शुरू किया है, वहां पार्टी को फायदा मिलता दिख रहा है। साल 2014 और साल 2019 के चुनाव में उनके अल्पमत विरोधी आश्रम ने भी लोहा माना। इन दोनों में ही चुनावी मैदान में बीजेपी ने शानदार प्रदर्शन किया। कहा जाता है कि अमित शाह को चैंपियनशिप, क्रिकेट देखने और संगीत में काफी दिलचस्पी है।

मोदी से मुलाकात कैसे हुई?

कहते हैं कि साल 1982 के आस-पास शाह ख़याल की नारणपुरा शाखा में शाह और नरेंद्र मोदी की मुलाक़ात हुई थी। उस समय नरेंद्र मोदी संघ के प्रचारक थे।

ये भी पढ़ें:

राजस्थान चुनाव: कांग्रेस ने जारी की 43 सेकंड की सूची, यहां जानें किसे मिलाप टिकट

‘परम पर है नफरत, अल्पसंख्यक नाबालिगों का सफाया करना चाहती है बीजेपी’, जयपुर में भड़के असदुद्दीन सोलंकी

नवीनतम भारत समाचार



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss