Milkha Singh Biography & Success Story in Hindi. मिल्खा सिंह (Milkha Singh) जिन्हें की “Flying Sikh” के नाम से भी जाना जाता है, उन्हें कौन नहीं जानता. मिल्खा सिंह भारत के उन सफलतम track athletes में से एक हैं जिन्होंने की बहुत से छोटे समय से जीवन जीने का मंत्र सीख लिया था. उन्हें बचपन में हुए हादसे ने बहुत कुछ सीखा दिया था, जो की बाद में उन्हें उन बुलंदीयों तक पहुँचने में मदद करी जो की एक समय में उनका सपना हुआ करता था. 

लेकिन दुःख की बात यह है की अब मिल्खा जी हमारे बीच नहीं रहे, एक काफ़ी बड़ी लढायी COVID के साथ लढ़ने के बाद उनके इस पार्थिव जीवन का हार हो गया. भले ही उन्हें अपना शरीर छोड़ना पड़ा हो लेकिन उनके द्वारा बनाए गए कीर्तिमान अभी भी हमारे लिए उदाहरण बनकर खड़े हैं. इतना ही नहीं आने वाले समय में भी ये लाखों नव युवकों को उनके तरह बनने के लिए प्रेरित करेंगे. 

Milkha Singh जो की भारत के पूर्व track और field sprinter रह चुके हैं. उनका जन्म Faisalabad, Pakistan में 20 November 1929 को हुआ था, पाकिस्तान के रेकर्ड के हिसाब से. वहीं लेकिन कुछ दूसरे रिपोर्ट में उनका जन्म 8 October 1935 में हुआ था. वो दौड़ने में इतने तेज थे की उनका नाम The “Flying Sikh” रखा गया था. 

वो एकमात्र ऐसे पुरुष athlete थे भारत के जिन्होंने की भारत के लिए individual athletics Gold जीता था Commonwealth Games में. उनका अपने खेल के प्रति समर्पण को नज़र में रखते हुए, Milkha Singh को वर्ष 1959 में Padma Shri से नजवजा गया तत्कालीन राष्ट्रपति के द्वारा. मिल्खा जी की एक अफ़सोश ये रही थी की वो अलिम्पिक में पदक लेते लेते रह गए. Olympic Games 1960 के 400 metres final में उन्हें चतुर्थ स्थान प्राप्त हुआ था.