25.1 C
New Delhi
Wednesday, April 17, 2024

Subscribe

Latest Posts

इस हॉलीवुड सिंगर की वजह से गोल्ड लवर बने थे बप्पी वेवी, चले गए इतने सोना


छवि स्रोत: डिज़ाइन
इस वजह से बनी थी गोल्ड लवर बप्पी लहरी

बॉलीवुड के मशहूर पॉप सिंगर और संगीतकार बप्पी लहरी का आज जन्मदिन है। बप्पी दा का जन्म 27 नवंबर 1952 को पश्चिम बंगाल के जलपाईगुड़ी में हुआ था। 80 के दशक में इंडस्ट्री में एंट्री करने वाले बप्पी वेवी ने काफी लंबे समय तक बॉलीवुड पर राज किया। उनकी अदाकारा ने बॉलीवुड में पॉप सिंगिंग की नई दिशा तय की। उनके चार्टबस्टर्स ने प्रेमियों के बीच खूब धमाल मचाया। जहां बप्पी लहरी अपने कुम कर उठा लेडे वाले सुपरहिट फिल्म के लिए गई थीं वहीं उनकी एक और टीम के बीच जबरदस्त डेब्यू हुआ था। वो था उनका ‘सोने के गहनों के प्रति गहरा प्यार’। डिस्को किंग ही नहीं बप्पी को ‘गोल्ड किंग’ के नाम से भी जाना जाता था।

बहुत बढ़िया सोना थे बप्पी लहरी

जी हां, ये बात किसी से छिपी नहीं है कि अपने अंदाज की वजह से फिल्म इंडस्ट्री में अलग पहचान बनाने वाले बप्पी दा को सोना पसंद करने लायक अच्छा लगता था। इन्हें सोने की जूरी के नाम और सोने के प्यार के लिए भी जाना जाता है। बप्पी एक इकलौते ऐसे सिंगर थे जो पूरे सारा सोना पहने नजर आए थे। गोल्ड के साथ-साथ उनके अच्छे-अच्छे फ़ाउल्स के मॉडल्स का भी खूब शौक रहा। उनके स्टाइल को लोग देख कर उन्हें आइकॉन देखने लगते हैं।

इस टीचर की वजह से गोल्ड लवर बने थे बप्पी

अपने गोल्ड प्रेम के बारे में खुद एक बार बप्पी ने साक्षात्कार में कहा था कि – एक हॉलीवुड कलाकार की वजह से उन्होंने सोना सोना शुरू किया था। बप्पी ने कहा, ‘मैं हॉलीवुड सिंगर एल्विस प्रेस्ली को काफी पसंद करता था। वो हमेशा गले में सोने की एक चेन के आभूषण बनाते थे और मुझे उनका ये कॉन्सेप्ट बहुत पसंद आता था। जिसके बाद उन्होंने मन बनाया कि वो भी एक सफल सिंगर बनेंगे और वो भी सफल होंगे।

बप्पी लहरी के पास इतना सोना था

साथ ही ये भी बता दें कि जानकारी के मुताबिक, बप्पी दा के पास 754 ग्राम सोना और 4.62 ग्राम चांदी मौजूद थी। साल 2014 में बपांकी लाहिड़ी ने चुनाव लड़ा था। इस दौरान उन्होंने इस बात की जानकारी खुद ही दी थी। इतना ही नहीं बप्पा नामचीन का गोल्ड प्रेम इतना ज्यादा था कि साल 2021 में धनतेरस के मौके पर उनकी पत्नी ने उन्हें सोने का चाय सेट का उपहार दिया था। बताया जाता है कि बप्पी दा सोने को बहुत ही संभाल कर रखते थे। मिठाई की माने तो बप्पी दा ने सामी से चेन, पेंडेंट, अंगूठियां, निर्माण, गणेश की मूर्तियां, पत्थरों से जड़े ब्रेसलेट, यहां तक ​​कि सोने के फ्रेम और सोने के कफ़लिंक थे। जो कि अब उनके निधन के बाद बंद कपड़े के अंदर रखे गए हैं और अब ये उनके परिवार की विरासत का हिस्सा हैं।

बप्पी के गाने

स्कॉलर है कि बप्पी की इंडस्ट्री में 48 साल का इतिहास था। उन्होंने अपने करियर में करीब 5,000 गाने बनाए। उन्होंने हिंदी, बंगाली, तमिल, पादरियों, मलयालम, कन्नड़, गुजराती, मराठी, पंजाबी, उड़िया, भोजपुरी, आसामी भाषाओं के साथ-साथ बांग्लादेश की फिल्मों और अंग्रेजी कवियों का भी साथ दिया। अब उनके जाने से प्यार में वो डिस्को के भाइयों की कमी जरूर खिलती है।

यह भी पढ़ेंः

रेशेर लाल यादव ने भगवा परिधान, परिधान पर तिलक, फिल्म ‘रंग दे बसंती’ का पहला लुक देखा

रिट्रीट पांडे और शिल्पी राज ने ‘ओढनिया फिरी में’ से उड़ाया गर्दा, वीडियो हो रहा वायरल

नवीनतम बॉलीवुड समाचार



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss