29.1 C
New Delhi
Friday, July 19, 2024

Subscribe

Latest Posts

क्या आप नो-कॉस्ट ईएमआई शॉपिंग करने की योजना बना रहे हैं? खरीदारी करने से पहले आपको यह जानना आवश्यक है


नई दिल्ली: नो-कॉस्ट ईएमआई के साथ खरीदारी तेजी से लोकप्रिय हो गई है, जिससे उपभोक्ताओं को तत्काल वित्तीय तनाव के बिना खरीदारी करने की सुविधा मिलती है। हालाँकि, सूचित वित्तीय निर्णय लेने के लिए इन योजनाओं की जटिलताओं को समझना महत्वपूर्ण है। नो-कॉस्ट ईएमआई ऑफर चुनने से पहले विचार करने योग्य कुछ प्रमुख बिंदु यहां दिए गए हैं:

नियम एवं शर्तों को समझें: किसी भी खरीदारी के साथ आगे बढ़ने से पहले, नो-कॉस्ट ईएमआई से जुड़े नियमों और शर्तों को अच्छी तरह से समझ लें। किसी भी छिपे हुए शुल्क या फीस पर ध्यान दें जो आपके समग्र व्यय को प्रभावित कर सकता है। (यह भी पढ़ें: अपनी संपत्ति बढ़ाने के लिए इस त्योहारी सीजन में निवेश के लिए 5 सर्वश्रेष्ठ सावधि जमा योजनाएं)

अपनी पात्रता का आकलन करें: आपके क्रेडिट स्कोर, न्यूनतम लेनदेन राशि और चुनी गई पुनर्भुगतान अवधि जैसे कारकों के आधार पर नो-कॉस्ट ईएमआई योजना के लिए अपनी पात्रता की पुष्टि करें। (यह भी पढ़ें: क्राफ्टिंग प्रॉफिट: इस बिजनेस आइडिया में 50,000 रुपये का निवेश करें और प्रति माह 3 लाख रुपये कमाएं – जांचें)

एक उपयुक्त कार्यकाल चुनें: हालांकि लंबी अवधि का विकल्प चुनने से आपका मासिक वित्तीय बोझ कम हो सकता है, लेकिन समय के साथ कुल लागत की गणना करना आवश्यक है। ऐसा कार्यकाल चुनें जो आपकी वित्तीय क्षमताओं के अनुरूप हो और अतिरिक्त व्यय को कम करता हो।

छिपे हुए आरोपों से सावधान रहें: ‘नो-कॉस्ट’ लेबल के बावजूद, कुछ ईएमआई योजनाओं में प्रोसेसिंग फीस या जीएसटी जैसे अंतर्निहित शुल्क हो सकते हैं। सुनिश्चित करें कि आप किसी भी संभावित अतिरिक्त लागत से अवगत हैं।

अपनी क्रेडिट सीमा की निगरानी करें: अतिरिक्त शुल्क लगने या अपने ईएमआई अनुरोध की अस्वीकृति का सामना करने से बचने के लिए अपनी क्रेडिट सीमा के भीतर रहें।

समय पर भुगतान: जुर्माने या ब्याज शुल्क से बचने के लिए समय पर ईएमआई भुगतान का लगातार ट्रैक रिकॉर्ड बनाए रखें।

उत्पाद का मूल्य सत्यापित करें: नो-कॉस्ट ईएमआई स्कीम के तहत उत्पाद की कीमत की दोबारा जांच करें और नियमित कीमत से इसकी तुलना करें। किसी भी मूल्य भिन्नता से सावधान रहें जो व्यापारी द्वारा अवशोषित ब्याज की भरपाई कर सकता है।

भरोसेमंद विक्रेता और प्लेटफ़ॉर्म: प्रतिष्ठित विक्रेताओं या विश्वसनीय ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म से खरीदारी को प्राथमिकता दें। ग्राहक समीक्षाओं और रेटिंग के माध्यम से उनकी विश्वसनीयता को मान्य करें।

रद्दीकरण और धनवापसी नीतियाँ: ईएमआई योजना से जुड़ी रद्दीकरण और रिफंड नीतियों से खुद को परिचित करें। कुछ योजनाओं में आंशिक रिफंड या अतिरिक्त रद्दीकरण शुल्क शामिल हो सकते हैं।

क्रेडिट स्कोर पर प्रभाव: स्वीकार करें कि नो-कॉस्ट ईएमआई का विकल्प अभी भी आपके क्रेडिट स्कोर को प्रभावित कर सकता है, क्योंकि इसमें क्रेडिट जांच शामिल है। अपने क्रेडिट इतिहास पर संभावित प्रभाव के प्रति सचेत रहें।

Latest Posts

Subscribe

Don't Miss