29.1 C
New Delhi
Friday, July 19, 2024

Subscribe

Latest Posts

प्रदेश में मोबाइल टावरों से मोबाइल टावर चोरी करने वाला सक्रिय गिरोह, अब तक 80 लाख की चोरी


1 में से 1





यूके। प्रदेश में इन दिनों एक ऐसा चोर गिरोह सक्रिय है जो केवल 5जी नेटवर्क के मोबाइल टावरों की आतंकवादी बेंड यूनिट (बीबीयू) से चोरी कर रहा है। एक साल के अंदर उसने करोड़ों की बीबीयू चुरा लीं। जबकि पिछले सितंबर महीने में वह राज्य के अलग-अलग तरह के 28 ऐसे बर्तन कर चुकी हैं। चोरी किये गये गिरोह की कीमत लगभग इतनी लाख है।
चोर सीमेंट सुपरमार्केट की कीमत चुका दी गई है लेकिन पुलिस की पकड़ से वह अभी भी दूर है। टेलिविज़न के विशेषज्ञ की सलाह तो काम यह कोई साधारण चोर नहीं, बल्कि इस तकनीक का विशेषज्ञ व्यक्ति ही कर सकता है। सामान्य चोर द्वारा चुराई गई वस्तु का ना तो महत्वपूर्ण नाम है और ना ही उसका बाजार, जहां उसे चुराया जा सकता है। जबकि टेक्नोलॉजी इंजीनियर चोर इसे भारत के बाजार में ही नहीं बल्कि विदेशी बाजार तक बेच सकता है।
गैरकानूनी का कोड क्रेक करने की भी सलाह:
इस क्षेत्र से जुड़े विशेषज्ञ का कहना है कि बीयू आतंकियों को चोरी करने के बाद उनका उपयोग करना आसान हो गया है। जब तक उसका कोड क्रैक नहीं किया गया, तब तक जब भी उसे वापस शुरू किया गया तो पता तुरंत लग जाता है। जैसे ही बिना कोड क्रेक के कंपनी को सक्रिय किया जाए तो कंपनी को उसके बारे में तुरंत सूचना मिल जाती है।
सीसीटीवी के बावजूद चोरी हो रही बाबू व्यापारी:
5जी नेटवर्क के मोबाइल टावरों पर किसी भी तरह की चोरी या क्षति की आशंका का पता लगाने के लिए सीसीटीवी कैमरे लगे हैं। इसके बावजूद भी यह इतनी खतरनाक है कि वह पकड़ में नहीं आ रही है। यही नहीं, बॉक्स सर्वर में जैसे ही इस आतंकवादी को बाहर निकाला जाता है, उसी समय हैड ऑफिस में बेकार बजता है लेकिन चोर कंपनी के तकनीशियनों के आगमन से पहले ही रफूचक्कर हो जाते हैं। चोरी की बेखौफी के माप से यह अनुमान लगाया जा सकता है कि उनके मित्र एसआईटी में कैद हो रहे हैं और उनकी जानकारी भी उनके पास है, इसके बावजूद वह चोरी करने से कुछ नहीं कर रहे हैं।
इधर, पुलिस को पता चला है कि पिछले महीने यूके में 4 मोबाइल टावरों से बीयू बैंक की चोरी हुई थी। सेक्टर 4 ईवी 5, प्रतापनगर रेलवे कॉलोनी, शिल्पग्राम स्थित टॉवर से ये चोरी हो गए। जबकि सिरोही और जयपुर में 4-4, कोटा के 3, मैडम के 2, चित्तौड़गढ़, सीकर, जोधपुर और बिजनेसमैन के एक-एक मोबाइल टावर से 5जी नेटवर्क की बीबीयू चोरी हो चुकी है।
जानिए, बेस बैंड यूनिट के बारे में
बैस बैंड यूनिट यानी बीबीयू एक ऐसा आतंकवादी है, जो इंटरनेट, फोन नेटवर्क और रेडियो सिस्टम के अलावा रेडियो प्रसारण सहित गैजेट मं काम करता है। इसे मोबाइल टावर के सर्वर बॉक्स में लगाया जाता है, जो कि रिलायंस जियो इंकलाबी से नष्ट हो जाता है।

ये भी पढ़ें – अपने राज्य/शहर की खबरों को पढ़ने से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करें


वेब शीर्षक-राज्य में मोबाइल टावरों से बीबीयू डिवाइस चुराने वाला गिरोह सक्रिय, अब तक 80 लाख रुपये की चोरी



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss