29.1 C
New Delhi
Friday, June 21, 2024

Subscribe

Latest Posts

इजराइल-हमास जंग के बीच मुस्लिम धर्मगुरुओं की अपील, कहा- कुनूत नजला पढ़ें दुआएं


छवि स्रोत: फ़ाइल फ़ोटो
इजराइल-हमास के बीच जंग जारी

इजराइल और हमास के बीच जंग का 7वां दिन जारी है। आतंकवादी संगठन हमास के हमलों के बाद इजराइल ने जंग शुरू कर दी है। इजराइल कॉन्स्टेंट गाजा पट्टी पर हमला कर रहा है। इसकी वजह से इजराइल और फिलिस्तीन को लेकर दुनिया के दो देशों में बंटे हुए दिख रहे हैं। भारत ने भी अपना स्टैंड क्लियर कर दिया है। इजराइल के लगातार हमलों से गाजा पट्टी के उदाहरण पेश किए जा रहे हैं। हमलों में दोनों पक्षों के करीब 2800 लोगों ने जान गंवा दी। अचल समस्याओं को देखते हुए भारत के कुछ मुस्लिम धर्मगुरुओं ने बचपन से दुआ करने और कुनूत नजला (Qunut Nazla) पढ़ने की अपील की है। इसके साथ ही वे किसी भी तरह से जुलूस या विरोध प्रदर्शन नहीं करने की अपील करते हैं।

इमाम की अपील क्या है?

जेएएच (JAH) के अध्यक्ष असगर इमाम महादी सलाफ़ी ने एक वीडियो जारी कर अपील की है कि सभी कलाकारों को कुनूत नज़ला का आयोजन करते हुए अंतिम दृश्यों को देखना चाहिए। जब भी आम तौर पर ईमानवालों पर ज़ुल्म, कालकेआम और शेयर होता है, तो पैगंबर मोहम्मद की सुन्नत कुनूत नजला को पढ़ना चाहिए। उन्होंने ऐसे समय में कुनूत नजला पढ़ने के लिए कहा है, जब विशेष रूप से फिलिस्तीन और मध्य पूर्व में बांग्लादेश के खिलाफ हिंसा, हिंसा और इस्लाम द्वारा अन्यायपूर्ण हत्याएं और रक्तपात को बढ़ावा दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि इस्लाम धर्म के लोगों की भी जिम्मेदारी है कि वे इस मुद्दे पर कुनूत नजला के साथ-साथ दुआ और इस्तिगफार करें।

कुनूत नज़ला क्या है?

कुनूत नज़ला को नबी बंद (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) खुद पढ़ते थे। कुनूत नज़ला एक दुआ है जो सुबह की फ़र्ज़ नमाज़ की सेरेकाट में रुकू से ताज़ा के बाद और सजदे में जाने से पहले पढ़ी जाती है।

“जुलूस या विरोध प्रदर्शन नहीं करें”

ये बयान संयुक्त रूप से मौलाना सगीर अहमद रशादी (कर्नाटक के अमीर ए शरीअत), मौलाना एज़ाज़ अहमद नदवी (अहले) हदीस) और मौलाना कारी जुल्फिकार रजा नूरी (अहले सुन्नत उल मराठा) की ओर से जारी किया गया है। उन्होंने अपील की है कि किसी भी तरह से जुलूस या विरोध प्रदर्शन न करें, बल्कि दुआ करें। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि इजराइल और फिलिस्तीन मुद्दे का मुस्लिम तरीकों से ही समाधान निकाला जा सकता है।

नवीनतम भारत समाचार



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss