35.1 C
New Delhi
Sunday, April 21, 2024

Subscribe

Latest Posts

नीरस दिनचर्या के लिए जरूरत से ज्यादा चलना: चलने की 5 सामान्य गलतियाँ आपके फिटनेस लक्ष्यों को नुकसान पहुंचा रही हैं


छवि स्रोत: गूगल पैदल चलने की 5 गलतियाँ आपके फिटनेस लक्ष्यों को नुकसान पहुंचा रही हैं

चलना अक्सर व्यायाम के सबसे सरल और सबसे प्रभावी रूपों में से एक माना जाता है, फिर भी कई लोग अनजाने में ऐसी गलतियाँ करते हैं जो उनके फिटनेस प्रयासों को कमजोर कर देती हैं। चाहे आप वजन घटाने, हृदय स्वास्थ्य के लिए, या केवल सक्रिय रहने के लिए चल रहे हों, इस कम प्रभाव वाली गतिविधि के लाभों को अधिकतम करने के लिए सामान्य नुकसान से बचना आवश्यक है। इस लेख में, हम चलने की पांच सामान्य गलतियों के बारे में जानेंगे जो आपके फिटनेस लक्ष्यों को नुकसान पहुंचा सकती हैं। इन त्रुटियों को पहचानकर और उनका समाधान करके, आप अपनी पैदल चलने की दिनचर्या का अधिकतम लाभ उठा सकते हैं और बेहतर परिणाम प्राप्त कर सकते हैं।

ग़लत मुद्रा और रूप:

चलते समय उचित मुद्रा और आकार बनाए रखना आपके वर्कआउट की प्रभावशीलता को अधिकतम करने और चोट के जोखिम को कम करने के लिए महत्वपूर्ण है। सामान्य गलतियों में झुकना, अपने पैरों की ओर नीचे देखना और अपनी भुजाओं को अत्यधिक हिलाना शामिल है। इन समस्याओं को ठीक करने के लिए, अपने कंधों को पीछे करके सीधे खड़े होने, सीधे आगे देखने और अपनी बाहों को अपनी प्रगति के साथ स्वाभाविक रूप से घुमाने पर ध्यान केंद्रित करें।

ओवरराइडिंग:

ओवरस्ट्राइडिंग तब होती है जब आप बहुत लंबे कदम उठाते हैं, जिससे अकुशल गति होती है और आपके जोड़ों पर तनाव बढ़ जाता है। इसके परिणामस्वरूप असुविधा या चोट लग सकती है, विशेषकर घुटनों और कूल्हों में। ज़्यादा चलने से बचने के लिए, क़दमों की प्राकृतिक लंबाई का लक्ष्य रखें जहाँ आपके पैर सीधे आपके शरीर के नीचे हों। बिना आगे बढ़े स्थिर गति बनाए रखने के लिए छोटे, तेज कदम उठाने पर ध्यान केंद्रित करें।

बहुत धीरे या बहुत तेज़ चलना:

चलने के हृदय संबंधी लाभों को अनुकूलित करने के लिए सही गति का पता लगाना आवश्यक है। बहुत धीमी गति से चलने से आपके दिल और फेफड़ों को चुनौती देने के लिए पर्याप्त तीव्रता नहीं मिल सकती है जबकि बहुत तेज़ी से चलने से थकान या जलन हो सकती है। अपनी आदर्श चलने की गति निर्धारित करने के लिए, ऐसी गति का लक्ष्य रखें जहां आप बिना सांस फूले आराम से बातचीत कर सकें। अपनी पूरी सैर के दौरान परिश्रम का मध्यम स्तर बनाए रखने के लिए अपनी गति को आवश्यकतानुसार समायोजित करें।

नीरस दिनचर्या:

दिन-ब-दिन एक ही चलने की दिनचर्या दोहराने से फिटनेस और प्रेरणा में स्थिरता आ सकती है। भिन्नता और प्रगति की उपेक्षा करने से आपके शरीर की समय के साथ अनुकूलन और सुधार करने की क्षमता सीमित हो जाती है। इस गलती से बचने के लिए, मार्ग, भूभाग या तीव्रता के स्तर को बदलकर अपने चलने में विविधता शामिल करें। इसके अतिरिक्त, अपने शरीर को लगातार चुनौती देने और प्रगति को प्रोत्साहित करने के लिए अपने चलने की अवधि, दूरी या तीव्रता को धीरे-धीरे बढ़ाएं।

वार्म-अप और कूल-डाउन को छोड़ना:

चलने से पहले ठीक से वार्मअप न करने और बाद में ठंडा न होने से चोट लगने का खतरा बढ़ जाता है और रिकवरी में बाधा आ सकती है। वार्म-अप व्यायाम आपकी मांसपेशियों में रक्त के प्रवाह को बढ़ाकर और लचीलेपन में सुधार करके आपके शरीर को गतिविधि के लिए तैयार करता है। इसी तरह, ठंडा होने से आपकी हृदय गति को धीरे-धीरे कम करने और मांसपेशियों की कठोरता को रोकने में मदद मिलती है। प्रदर्शन को अनुकूलित करने और चोट के जोखिम को कम करने के लिए अपने वार्म-अप में गतिशील स्ट्रेच और हल्की कार्डियो गतिविधि को शामिल करें और अपने कूल-डाउन में स्टैटिक स्ट्रेच को शामिल करें।

यह भी पढ़ें: चलना, टहलना, योग और शक्ति प्रशिक्षण अवसाद के खिलाफ प्रभावी उपकरण: अध्ययन



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss