27.9 C
New Delhi
Wednesday, April 17, 2024

Subscribe

Latest Posts

26/11 मुंबई हमले से इजरायली बच्चे “मोशे” का क्या नाता, जिसे पीएम मोदी ने गले लगाया था


छवि स्रोत: फ़ाइल
इजरायली बच्चे मोशे को 2017 में इजराइल दौरे के दौरान गले से मिले मोदी और साथ में मौजूद प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू। (फाल्फ़)

26 नवंबर 2008 को मुंबई में आतंकवादी हमले की आज 15वीं रैली हुई। इस हमले का खौफनाक यादें आज भी लोगों के जहां में ताजा हैं। फ़ोर्स ऑफ़िसर ने सी वे इंडिया ग्यान मुंबई के ताज होटल सहित कई अन्य लोगों पर भारतीयों और अन्य लोगों को बंधक बना लिया था। इस दौरान आतंकी हमलों में 18 सुरक्षाकर्मी समेत 166 लोग मारे गए थे। बदले की कार्रवाई में सभी साथी मारे गए थे। एक दिवंगत कलाकार अजमल आमिर कसाब को भारत ने जिंदा पकड़ लिया था। जिस पर मुकदमा दायर करने के बाद उसे फाँसी दे दी गई। इस हमले से इजरायली बच्चे मोशे होल्ट्सबर्ग का भी गहरा नाता है, जो कि मुंबई में था और सिर्फ 2 साल का था।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साल 2017 में अपने इजराइल दौरे के दौरान इजराइली बच्चे मोशे होल्ट्सबर्ग से मुलाकात के बाद अपनी चीखें निकालीं। साथ ही मोशे को भारत आने का न्योता भी दिया था। मोशे को मुंबई हमलों की ख़तरनाक यादें और पीएम मोदी के साथ देखे गए शानदार लम्हों की बातें आज भी ताज़ा हैं। इसलिए मोशे ने इन दोनों वक्ता को खास तरीकों से याद किया है। बता दें कि मुंबई में 2008 के नरसंहार हमलों में मोशे बाल-बाल बचा था। मोशे होल्ट्सबर्ग के नाना-नानी ने अपना दुख महसूस किया और उन्हें भारत के लोगों के लिए अपना सुझाव दिया।

फोटोग्राफर ने मोशे के मां-बाप को भी मार डाला था

पाकिस्तान के नरसंहार संगठन एमबीएच-ए-तैयबा के संयंत्र ने 26 नवंबर 2008 को मुंबई में कई जगहों पर हमले किए थे, जिनमें से एक ‘नरीमन हाउस’ भी था, जिसे चबाड हाउस भी कहा जाता है। मोशे का वह वक्त सिर्फ दो साल का था और हमलों के वक्त अपने माता-पिता गेब्रियल होल्टबर्ग और रिवका होल्ट्सबर्ग के साथ नरीमन हाउस में थे। उस बर्बरतापूर्ण हमले में मोशे के माता-पिता मारे गए थे। मोशे के नाना रब्बी शिमोन रोसेनबर्ग ने कहा, ”भारत के लोगों को याद है कि 15 साल पहले आज का दिन क्या हुआ था। हमारे परिवार पर और अन्य इजराइली परिवार पर जो गौरव की बात थी वह आपको याद है। आपने अपना दुख महसूस किया और उसे समझाया।

इज़रायल-हमास युद्ध का ज़िक्र

मोशे के नाना-नानी ने इजराइल और हमास के बीच युद्ध की पृष्ठभूमि में कहा, ”इस साल में उन्होंने दिखाया कि हत्यारे किस तरह से यहूदियों की हत्या कर रहे हैं, लेकिन हम पूरी दुनिया में शांति चाहते हैं।” हमलों से बचकर के सीने से चिपकाए गए नैनी सैंड्रा की एक ऐसी तस्वीर सामने आई थी, जिसने पूरी दुनिया का ध्यान खींच लिया था। रोसेनबर्ग ने कहा, ”मोशे ठीक है और येशिवा पढ़ाई कर रही है। सैंड्रा इज़राइल में है और डोमिनिक यरूशलम से हमारे पास आती है। वह हमारे परिवार के सदस्य की तरह ही हैं और यह उनका भी है।” सैंड्रा को इजराइल सरकार ने मानद नागरिकता दी थी और उन्हें ‘राइटियस जेंटाइल’ की उपाधि से सम्मानित किया गया था। यह एक दुर्लभ सम्मान है और यहूदियों को अपनी जान जोखिम में डालकर नरसंहार के दौरान उन लोगों की हत्या कर दी गई।

मोशे ने आतंक के ख़िलाफ़ आवाज़ उठाई

मुंबई में आतंकवादी हमलों में बाल-बाल बच्चा मोशे ने पिछले साल एक वीडियो संदेश जारी कर अंतरराष्ट्रीय समुदाय से आतंकवाद का मुकाबला करने की मांग की थी। ताकि ”किसी को भी वह दर्द से नहीं जिया पड़े, जिससे गुजर हो।” उस वीडियो में मोशे ने अपने भागने की कहानी भी साझा की। वह सैंड्रा के साहसिक कार्य के कारण ही बच सका ”जिसने उसे डराने के लिए अपनी जान जोखिम में डाल दी थी।” मोशे ने अपनी गिरफ्तारी की कहानी भी दुनिया के साथ साझा की। उन्होंने 2017 के वीडियो में इजराइल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ अपनी मुलाकात को भी याद किया। उन्होंने कहा, ”हमें प्यार से गले लगाया और मुझे नाना-नादी के साथ भारत आने का न्योता दिया। (भाषा)

यह भी पढ़ें

नवीनतम विश्व समाचार



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss