38.1 C
New Delhi
Sunday, June 23, 2024

Subscribe

Latest Posts

दिल्ली जल बोर्ड में 20 करोड़ का घोटाला, जानिए कैसे पानी का पैसा ‘पी गए’ अधिकारी


छवि स्रोत: इंडिया टीवी
दिल्ली जल बोर्ड घोटाले में गिरफ्तारियां 3 एक्स

दिल्ली जल बोर्ड के पानी के बिल में 20 करोड़ से अधिक का घोटाला किए जाने का मामला सामने आया है। इस मामले में भ्रष्टाचार निवारण शाखा ने दो आरोपितों पर आरोप लगाए हैं – फ्रेश पे आईटी सैल्यूशंस और आरईएम ई-पेमेंट्स के मालिक और निदेशक सहित तीन को गिरफ्तार कर लिया है। दिल्ली जल बोर्ड के अधिकारियों की मिलीभगत से यह घोटाला हुआ है। एंटी करप्शन (एसीबी) ऐसे अधिकारियों के बारे में पता लगाने की कोशिश कर रहा है। उनकी सनक का पता चलने के कारण उन्हें भी गिरफ्तार किया जाएगा। एसीबी के प्रमुख वर्मा वर्मा के मुताबिक गिरफ्तार किए गए निशानों के नाम राजेंद्रन नायर, गोपी कुमार केडिया और डॉ अभिलाष वासुकुट्टन पिल्लई है।

जल बोर्ड ने बिल मार्कने का दिया था

एसीबी के प्रमुख मधुर वर्मा के अनुसार पानी के बिल का भुगतान करने के लिए दिल्ली जल बोर्ड के सभी पंजीकृत कियोस्क स्थापित किए गए थे। जल बोर्ड ने इन दोनों प्राधिकरण को पानी का बिल लेने का ठेला दिया था। दिल्ली जल बोर्ड ने कनेक्शन की सुविधा के लिए कार्पोरेशन बैंक (अब यूनियन बैंक ऑफ इंडिया) को विभिन्न जल बोर्ड के खाते में एटोमैटिक बिल भुगतान संग्रह विधियों की स्थापना का काम किया था। इसके उपभोक्ता नगद और चेक के जरिए बिल का भुगतान करते थे।

2019 में ही खत्म हो गया था प्राधिकरण का केंद्र
कार्पोरेशन बैंक ने आगे यह ठेकेदार फ्रेश-पे आईटी सैल्यूशंस को दिया था, जिसने उसे आगे आरम ई-पेमेंट्स कंपनी को दिया था। नियम कानून को ताक पर रखने के लिए हर साल बिल वसूलने का ठेका दिया जाता है। इन बंधकों का अनुबंध 10 अक्टूबर 2019 तक ही था लेकिन आर्म ई-पेमेंट्स अवैध तरीके से मार्च 2020 तक बिल वसूलने का काम करती रही। जल बोर्ड द्वारा की गई प्रारंभिक जांच में फंड में करोड़ों का गबन का पता चला पर ACB में शिकायत दर्ज की गई थी। कार्पोरेशन बैंक (अब यूनियन बैंक ऑफ इंडिया) और जल बोर्ड के अधिकारियों की मिलीभगत से 20 करोड़ से अधिक की हेराफेरी का पता चल रहा था पिछले साल एफएआइआर दर्ज की गई थी।

कंपनी ने कैसे ‘पिया’ पानी का पैसा
जब जांच हुई तो पता चला कि आरईएम ई पात्रता विभिन्न कियोस्क से राशि योग कर अपना कनाट प्लेस स्थित कार्यालय ले आया था। उन्होंने समेकन की राशि में कुछ गबन कर दिया तो कुछ जमा बैंक के खातों में जमा कर दिया। उसके बाद कंपनी के अधिकारियों ने उसे RTGS के माध्यम से अपनी सुविधा से कुछ पैसे जल बोर्ड के खाते में आवंटित कर दिया। कंपनी ने जल बोर्ड खाते में पूरी राशि आवंटित नहीं की थी। जांच के दौरान पता चला कि जल बोर्ड के कियोस्क से समेकन की राशि को राजू नायर और उनकी मृत्यु और कई अन्य चार-पांच सेल फर्मों को फेडरल बैंक के खाते से आरईएम ई-पेमेंट को स्थानांतरित किया गया था। उन्होंने आरम ई-पेमेंट और फ्रेश पे आईटी सैल्यूशन के कर्मचारियों का हायर, पेंशन व अन्य पात्रता का भुगतान फेडरल बैंक के समान लाभों से जल बोर्ड के कियोस्क से एकत्रित नुकसान से कर दिया।

कई देश स्थित हैं घोटाले में सहयोगी कंपनियाँ
कांट्रेक्ट के अनुसार इस पर निगरानी होने की संभावना है। जल बोर्ड के किनारे निगम, ताजापे इसकी सैल्यूशंस और आर्म ई-पेमेंट ने जमा की राशि का मिलान नहीं किया। जल बोर्ड द्वारा इसे देखे जाने के बाद भी डीलर की ओर से छलाँग लगाई जाती थी जिसे जल बोर्ड के लाभों में जमा किया जाता है। इस मामले में ताजा-पे से जुड़ी तीन कंपनियां शामिल हुईं। बॉस्ट्री लिमिटेड, लुकुमी अकृता, अक्रितास कोर्ट, लिमासोल, साइप्रस में स्थित है। यह यूरोप में है। साइप्रस की राजधानी निकोसिया में अक्रोन लिमिटेड नाम की कंपनी है। गिसोरो ग्लोबल इंक, टोर्टोला ब्रिटिश वर्जिन आइलैंड्स में स्थित है।

ड्राइवर को कंपनी में निदेशक बनाया गया
कंपनी फ्रेश पे का मालिकाना हक राजेंद्रन नायर बिल्कुल राजू नायर, कोचीन, केरल का रहने वाला है लेकिन वह रूस के मास्को में रहता है। फर्जीवाड़ा करने के लिए ग्रुप के ड्राइवर रतन सिंह को कंपनी में बना दिया। इसके जरिए ही उन्होंने फर्जीवाड़ा करता था। एसीबी को पता चला है कि रतन सिंह वर्तमान में मॉस्को, रूस में है। गिरफ्तार अपराधी राजेंद्रन नायर, आरम ई-पेमेंट के मालिक व निदेशक हैं। गोपी कुमार केडिया, नोएडा नोएडा रहने वाला है। आर्म ई-पेमेंट कंपनी में यह मुख्य वित्त अधिकारी और अधिकृत हस्ताक्षरकर्ता था। डॉ. अभिलाष वासुकुट्टन पिल्लई, पंडालम, केरला रहने वाला है। फ्रेशपे इसकी कंपनी के निदेशक होने के साथ ही यह ऑरम ई-पेमेंट और फ्रेशपे पर इसका अधिकृत हस्ताक्षरकर्ता भी था।

ये भी पढ़ें-

दिल्ली शराब घोटाला: कोर्ट ने कोर्ट से करार को भेजा समन, मनीष सिसोदिया का नाम नहीं

क्या शिक्षक भर्ती घोटाले में शुभेंदु अधिकारियों ने भी किया हाथ साफ? जानें ममता बनर्जी ने क्या कहा



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss