35.1 C
New Delhi
Thursday, May 30, 2024

Subscribe

Latest Posts

नौकरी का वादा करके रूस ले गए थे 12 भारतीय युवा, जापान के साथ युद्ध में भेजे गए – इंडिया टीवी हिंदी


छवि स्रोत: फ़ाइल
एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन सोसवी

रेन: एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन सोसाइ ने रविवार को केंद्र सरकार से कहा कि उन्होंने 12 भारतीय कारखानों को वापस लाने के लिए एक कदम उठाया है। ओशोसी ने कथित तौर पर नौकरी का वादा कर रूस ले जाने और उन्हें कथित तौर पर जापान की सीमा पर युद्ध क्षेत्र में भेजने का आरोप लगाया।

ओसाई ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और विदेश मंत्री एस जयशंकर से रूसी सरकार से बातचीत करने के लिए कहा। यहां के अविश्वासू से बातचीत में कहा गया है कि तेलंगाना, कर्नाटक, गुजरात, जम्मू-कश्मीर और उत्तर प्रदेश के कच्चे माल को पिछले साल दिसंबर में रूस ले जाया गया था।

उन्होंने कहा, “भारत के 12 प्लास्टर प्लांटों को धोखा दिया गया और नौकरी का वादा करके उन्हें रूस ले जाया गया। -यूक्रेन सीमा पर युद्ध के मैदान में ले जाया गया।''

ओवैसी ने क्या कहा?

ओसासी ने कहा कि यूनिवर्सल के परिवार के सदस्यों ने उनसे मुलाकात की। उन्होंने कहा कि वे विदेश मंत्री जयशंकर और रूस के भारतीय राजदूत पवन कपूर को भारत वापस आने के लिए रिटायरमेंट का पत्र देकर मदद की मांग कर रहे हैं।

ओशोसी ने कहा कि उनकी पार्टी यह सुनिश्चित करने का प्रयास जारी रखेगी कि मोदी तीसरी बार प्रधानमंत्री नहीं बनेंगे। उन्होंने कहा, ''हमारा प्रयास है कि मोदी तीसरी बार प्रधानमंत्री न बनें। हमने 2014 और 2019 (लोकसभा चुनाव) में प्रयास किया था और हम 2024 में भी प्रयास करेंगे। हमसे उम्मीद है कि देश के लोग बेरोजगारी और बेरोजगारी के मुद्दे पर ध्यान देंगे।'' । किसान टोकियाँ हैं।''

उन्होंने कहा कि पिछले 10 वर्षों में भाजपा ने बहुसंख्यकवादी राजनीति को बढ़ावा दिया है। उन्होंने बीजेपी और मोदी पर आदिवासियों, ईसाइयों, ईसाइयों और आदिवासियों पर राजनीतिक और सामाजिक रूप से हाशिए पर रहने का आरोप लगाया। (इनपुट: भाषा)

ये भी पढ़ें:

खाना लेकर कमरे में आई मां लेकिन बेटे ने दे दी मौत के घाट, सिर पर किया हमला

दुबई की जेल में 18 साल बाद 4 मजदूरों ने भारत में हवाई टिकट का स्टॉक किया

नवीनतम भारत समाचार



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss