नई दिल्ली: चार दशक पहले चीन ने अपनी विशाल आबादी को नियंत्रित करने के लिए विवादास्पद एक बच्चे की नीति लाई थी। कुछ साल पहले लागू की गई अपनी टू-चाइल्ड पॉलिसी के फेल होने के बाद आज वह थ्री चाइल्ड पॉलिसी लाने पर विचार कर रही है।

ज़ी न्यूज़ की एंकर अदिति त्यागी ने सोमवार (31 मई) को चीन की जनसंख्या को विनियमित करने के लिए वर्षों से नीतियों पर चर्चा की। उन्होंने बताया कि क्यों एक बच्चा नीति का प्रचार करने वाला देश तीन बच्चों की नीति की ओर बढ़ रहा है।

चीन दुनिया का पहला देश है जिसने 1979 में जनसंख्या नियंत्रण – एक बच्चे की नीति के संबंध में एक कड़ा कानून बनाया। यह नीति 37 वर्षों तक चीन में लागू रही। 2016 में, यह दूसरी-बाल नीति लाया। अब देश थर्ड चाइल्ड पॉलिसी लाने जा रहा है जिसका मतलब है कि लोग तीन बच्चों को जन्म दे सकेंगे। पिछले कुछ दशकों में जनसंख्या नियंत्रण पर चीन का रुख पूरी तरह से बदल गया है।

चीन अब जनसंख्या क्यों बढ़ाना चाहता है?

पहला कारण चीन में जनसंख्या वृद्धि दर में ऐतिहासिक गिरावट है। 1979 में जब चीन एक बच्चे की नीति लेकर आया तो उसकी राष्ट्रीय जन्म दर 5.9 प्रतिशत थी। लेकिन नीति के कारण वर्ष 1990 तक राष्ट्रीय जन्म दर को घटाकर 1.7 प्रतिशत कर दिया गया।

2016 में जब चीन में सेकेंड चाइल्ड पॉलिसी आई तो इससे कोई फर्क नहीं पड़ा। आज चीन की राष्ट्रीय जन्म दर घटकर मात्र 1.3 प्रतिशत रह गई है।

जनसंख्या को स्थिर रखने के लिए राष्ट्रीय जन्म दर कम से कम 2.1 प्रतिशत होनी चाहिए। इसलिए गिरती जन्म दर चीन के लिए चिंता का विषय है।

दूसरा कारण कामकाजी उम्र के लोगों की घटती संख्या है। किसी भी देश की आर्थिक प्रगति के लिए यह आवश्यक है कि 15 वर्ष से 60 वर्ष के बीच के लोगों की संख्या पर्याप्त हो। चीन में इस आयु वर्ग की जनसंख्या तेजी से घट रही है।

पिछले 10 वर्षों में इस उम्र के लोगों की हिस्सेदारी 70 प्रतिशत से घटकर लगभग 63 प्रतिशत हो गई है, जबकि वृद्ध लोगों की आबादी तेजी से बढ़ रही है।

किसी भी देश के लिए बूढ़ा होना स्वस्थ संकेत नहीं है और इसलिए ये आंकड़े चीन के लिए चिंताजनक हैं।

चीन की दूसरी बाल नीति क्यों सफल नहीं रही?

इसका सबसे बड़ा कारण वहां के लोगों में शादी के प्रति रुचि की कमी है। चीन में अब बहुत से युवाओं की शादी नहीं हो रही है। साथ ही युवाओं को नौकरी के लिए भी संघर्ष करना पड़ रहा है। इसे देखते हुए सरकार पर पुरुषों को 60 साल की उम्र में और महिलाओं को 50 साल की उम्र में रिटायर करने का दबाव बढ़ गया है.

अगर हम भारत की बात करें तो आज उसके सामने चुनौती जनसंख्या बढ़ाने की नहीं बल्कि जनसंख्या को नियंत्रित करने की है। साल 2019 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 15 अगस्त के मौके पर लाल किले से अपने भाषण में कहा था कि जनसंख्या विस्फोट से भारत को कई समस्याओं का सामना करना पड़ेगा. उन्होंने यह भी कहा था कि जिनका छोटा परिवार होता है, वे देश के विकास में योगदान करते हैं जो देशभक्ति का एक रूप है।

आज जब चीन तीन बच्चों की नीति लेकर आया है और अपनी जनसंख्या बढ़ाना चाहता है तो भारत को भी इस विषय पर गौर करना चाहिए और जनसंख्या नियंत्रण की दिशा में ठोस कदम उठाना चाहिए।

लाइव टीवी

.