कोलकाता: पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सोमवार को कहा कि राज्य सरकार को केंद्र से एक पत्र मिला है जिसमें मुख्य सचिव अलपन बंद्योपाध्याय से डीओपीटी को रिपोर्ट करने को कहा गया है.

पत्र मिलने पर हैरानी जताते हुए उन्होंने आगे बताया कि केंद्र सरकार ने पत्र में कोई स्पष्टीकरण नहीं दिया कि सीएस को वापस क्यों बुलाया जा रहा है।

पत्र में कहा गया है कि मुख्य सचिव अलपन बंद्योपाध्याय 1 जून को सुबह 10 बजे डीओपीटी, नॉर्थ ब्लॉक को रिपोर्ट करें।

पत्र के बारे में बोलते हुए सीएम बनर्जी ने कहा, “हमें कोई न्याय नहीं मिला। उन्होंने पत्र में यह नहीं बताया है कि उन्हें दिल्ली क्यों बुलाया गया है। उन्होंने सिर्फ एक कानून का उल्लेख किया है।”

उन्होंने आगे कहा कि पश्चिम बंगाल सरकार ने पहले एक पत्र भेजा था जिसमें विस्तार का अनुरोध किया गया था और अनुरोध को मंजूरी दे दी गई थी।

उन्होंने कहा, “मैं यह पत्र पाकर हैरान हूं। हमने उन्हें यह कहते हुए लिखा था कि वे एकतरफा फैसला नहीं ले सकते। सीएस सरकार में सबसे वरिष्ठ नौकरशाह हैं। यह शर्मनाक है और इतिहास में ऐसा कभी नहीं हुआ।”

और जोड़ा, “ऐसा हृदयहीन पीएम और एचएम कभी नहीं देखा जो मुझ पर हमला करने की कोशिश करते हुए नौकरशाहों को परेशान कर रहे हों।”

.